Jio गीगाफाइबर के नाम पर फ्रॉड ई-मेल से बचें, लोगों से ठगा जा रहा है पैसा

|

जियो कंपनी देशभर में अपने नए-नए सर्विस को शुरू करती जा रही है लेकिन उसके साथ-साथ देशभर में फ्रॉडो की संख्या भी बढ़ती जा रही है। जियो के नाम पर बहुत सारे लोग देशभर में धोखादड़ी कर रहे हैं लेकिन ना तो जियो कंपनी इसके ऊपर कोई ध्यान दे रही है और ना पुलिस इस संबंध में कुछ कर रही है। जियो को ट्वीट या अन्य तरीको से शिकायत करने के बाद भी कंपनी इस बारे में कुछ भी नहीं कर रही है और जियो के नाम पर फ्रॉड लोग आम लोगों से पैसे ठगे जा रहे हैं।

Jio गीगाफाइबर के नाम पर फ्रॉड ई-मेल से बचें, लोगों से ठगा जा रहा है पैसा

 

हमने आप जियो का टॉवर लगवाने के नाम पर पैसे ठगने वाली ख़बर के बारे में बताया था अब वैसा ही एक नया फ्रॉड का तरीका आजकल इंटनरेट की दुनिया में छाता जा रहा है। जियो कंपनी अगस्त में अपनी नई सर्विस जियो गीगाफाइबर की शुरुआत करने वाली है। इस नई सर्विस के नाम पर फ्रॉड लोग आम लोगों को ई-मेल भेज रहे हैं जिसमें वो जियो गीगाफाइबर सर्विस को एक्टिवेट करने या उसको रजिस्टर करने के लिए कह रहे हैं।

Jio Gigafiber के नाम पर फ्रॉड

जियो के नाम से आ रहे इस फ्रॉड ई-मेल में एक लिंक दिया गया है जो पूरी तरह से फर्जी है। इस लिंक पर क्लिक करने पर आपको जियो गीगाफाइबर का कम दाम वाला प्लान का पैकेज दिखाई देगा, जिसे आपको प्री-रजिस्टर करने के लिए कहा जाएगा। अगर आप उसे रजिस्टर कर लेंगे तो आपके पैसे उन फ्रॉड लोगों के पास चले जाएंगे और आपको कोई सर्विस एक्टिवेट नहीं होगी।

यह भी पढ़ें:- Jio के नाम पर लोगों को लूटने वाले लुटेरों की कहानी, सुनिए हमारी जुबानी

लिहाजा, अगर आपके पास ऐसा कोई फर्जी मेल जियो के नाम से जियो गीगाफाइबर को एक्टिवेट या रजिस्टर करने के लिए आता है तो उस मेल पर ध्यान ना दें और उसमें दी गई लिंक को क्लिक करें। अगर हो सके तो जियो कस्टमर केयर या ट्विटर पर उस ई-मेल को ट्वीट करके सीधा जियो कंपनी से उस ई-मेल की सच्चाई जानने की कोशिश करें।

Jio के नाम देशभर में करोड़ों की ठगी

Jio गीगाफाइबर के नाम पर फ्रॉड ई-मेल से बचें, लोगों से ठगा जा रहा है पैसा

 

आपको बता दें देशभर के कई इलाकों में ऐसे फ्रॉड लोग बढ़ते ही जा रहे हैं। ये लोग जियो का पूरा फॉर्मेट तैयार करते है। ये फॉर्मेट देखने में एकदम जियो कंपनी का असली फॉर्मेट लगता है, इस वजह से इस फॉर्मेट की असलियत को पहचान पाना काफी मुश्किल होता है। जियो का टॉवर लगवाने के नाम पर पूरे देश के सैकड़ों लोगों से करोड़ों रुपए की ठगी की गई है।

यह भी पढ़ें:- Jio Giga Fiber के हर सवाल का जवाब, रजिस्ट्रेशन की हुई शुरुआत

जियो टॉवर लगवाने के लिए भी फेक और फर्जी वेबसाइट गूगल के टॉप सर्च पर आती है और पेड वेबसाइट होती है, जो एक नजर में देखने के बाद पूरी तरह से जियो की असली वेबसाइट लगती है। इन पूरी तैयारियों के साथ ये फ्रॉड लोग सभी फ़र्जी चीज तैयार करके लोगों के पैसे ठगते हैं। इसके ऊपर रोक लगाना बेहद जरूरी है।

Jio कंपनी को लगानी चाहिए रोक

पैसे ठगी होने के बाद लोगों ने जियोक कंपनी से कई बार शिकायतें भी की है लेकिन कंपनी की तरफ से किसी तरह का पूरा रिसपॉन्स नहीं मिलता है। जियो कंपनी खुद भी इस फ़र्जीवाड़े के बारे में जानते हैं लेकिन अभी तक कंपनी ने इसे रोकने के लिए कोई भी ठोस कदम नहीं उठाया है। ऐसे में ये सवाल उठता है कि इंटरनेट की दुनिया एक तरफ तो सुविधाएं आसान होती जा रही है लेकिन दूसरी तरफ धोखाधड़ी करने का भी जरिया बिल्कुल आसान होता जा रहा है।

यह भी पढ़ें:- सपनों को रिकॉर्ड करने की पूरी कहानी, सुनिए हिंदी गिज़बॉट की जुबानी

जिसका फायदा फ्रॉड लोग उठा रहे हैं। हमारा कंपनी और साइबर क्राइम डिपार्टमेंट से अनुरोध है कि इंटरनेट पर मौजूद किसी कंपनी के नाम पर ऐसे फर्जी चीजों को हटाएं और कंपनियां अपने नाम पर हो रही इन फर्जीवाड़े को रोके। अगर आपके पास भी जियो या किसी भी कंपनी के नाम पर कोई भी ऑफर या किसी भी तरह की सर्विस खरीदने या लेने का ऑफर आता है, तो उसे लेने से पहले उसकी पूरी तरह से जांच जरूर करें।

Most Read Articles
 
Best Mobiles in India

English summary
We told you about the news of cheating money in the name of setting up a tower of Jio. Now the method of a new fraud is going on in the world of the Internet nowadays. Jio Company is set to launch its new service Jio GigaFiber in August. Fraud people are sending e-mails to the common people in the name of this new service.

बेस्‍ट फोन

तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more