क्या आप भी करते है ऑनलाइन शॉपिंग? हो जाएं फर्जी ओटीपी स्कैम से सावधान

|
क्या आप भी करते है ऑनलाइन शॉपिंग? हो जाएं फर्जी ओटीपी स्कैम से सावधान

Amazon और Flipkart जैसी ई-कॉमर्स साइटों ने ऑनलाइन डिलीवरी धोखाधड़ी से लड़ने के लिए वन टाइम पासवर्ड (OTP) डिलीवरी वेरिफिकेशन प्रक्रिया शुरू की है। इस प्रक्रिया में, ग्राहकों से कहा जाता है कि वे अपने डिलीवरी पैकेज की जांच करें और फिर पैकेज की प्राप्ति की पुष्टि करने के लिए अपने फोन पर प्राप्त ओटीपी को डिलीवरी एजेंटों के साथ शेयर करें। जहां ओटीपी डिलीवरी फर्जी डिलीवरी पर ऑनलाइन धोखाधड़ी को रोकने का एक सुरक्षित तरीका बन गया, वहीं दूसरी तरफ इसने ओटीपी पैकेज डिलीवरी घोटाले के एक और ऑनलाइन धोखाधड़ी का तरीका निकाला है।

 

Jio Happy New Year 2023 offer: 2.5GB डेली डेटा के साथ और भी बहुत कुछJio Happy New Year 2023 offer: 2.5GB डेली डेटा के साथ और भी बहुत कुछ

फर्जी ओटीपी स्कैम

स्कैमर्स जो हमेशा लोगों को फसाने के नए तरीकों की तलाश में रहते हैं, वे अब डिलीवरी एजेंट के रूप में लोगों से पैसे चुरा रहे हैं। कई रिपोर्ट किए गए मामलों के अनुसार, ये स्कैमर डिलीवरी एजेंट के रूप में दरवाजे पर पहुंचते हैं और डिलीवरी से पहले लोगों से ओटीपी मांगते हैं। एक बार जब कोई व्यक्ति ओटीपी शेयर करता है, तो स्कैमर उनके फोन का क्लोन बना लेते हैं या बैंक अकाउंट जैसे डेटा तक पहुंच प्राप्त कर लेते हैं।

क्या आपके पास है Xiaomi स्मार्टफोन? ऐसे करें Jio True 5G नेटवर्क चेकक्या आपके पास है Xiaomi स्मार्टफोन? ऐसे करें Jio True 5G नेटवर्क चेक

फर्जी ओटीपी डिलीवरी घोटाला क्या है

स्कैमर्स उन लोगों को फसाते हैं जो ई-कॉमर्स वेबसाइटों से बहुत अधिक खरीदारी करते हैं। वे उन लोगों पर नज़र रखेंगे जो अक्सर डिलीवरी पैकेज प्राप्त करते हैं और फिर डिलीवरी एजेंट होने का नाटक करते हुए उनके दरवाजे पर दिखाई देंगे। स्कैमर्स कहेंगे कि वे अमेज़न और फ्लिपकार्ट जैसी सबसे बड़ी ई-कॉमर्स साइटों या डाकघर से हैं। इसके अलावा, वे यह कहते हुए पैसे मांगेंगे कि यह पे-ऑन डिलीवरी पार्सल है। यदि व्यक्ति डिलीवरी पैकेज प्राप्त करने से इनकार करता है, तो वे ऐसा व्यवहार करेंगे जैसे वे डिलीवरी रद्द कर रहे हों।

WhatsApp से करें Uber राइड बुक, स्टेप-बाय-स्टेप जानकारी यहां, करें खुलकर सवारीWhatsApp से करें Uber राइड बुक, स्टेप-बाय-स्टेप जानकारी यहां, करें खुलकर सवारी

डिलीवरी या कैंसिलेशन को प्रोसेस करने के लिए स्कैमर एक ओटीपी मांगता है। और यहीं वे व्यक्ति को बरगलाते हैं। जो लोग अनजान हैं वे स्कैमर्स को ओटीपी देते हैं या फोन पर प्राप्त लिंक पर क्लिक करते हैं और स्कैम के झांसे में आ जाते हैं। एक बार जब स्कैमर्स को ओटीपी मिल जाता है, तो वे बैंक अकाउंट के डिटेल्स तक पहुंचने के लिए फोन का क्लोन या हैक कर लेते हैं और पीड़ित के अकाउंट से पैसे चुरा लेते हैं।

सामने आया Uber 2022 का लेखा-जोखा, 2022 में भारतीयों ने Uber कैब में बिताएं 11 अरब मिनट सामने आया Uber 2022 का लेखा-जोखा, 2022 में भारतीयों ने Uber कैब में बिताएं 11 अरब मिनट

कभी-कभी, ये स्कैमर व्यक्ति के पड़ोसियों से संपर्क करते हैं और उनसे उस व्यक्ति को कॉल करने और ओटीपी देने या उनकी ओर से भुगतान करने के लिए कहते हैं। उस वक्त लोग अक्सर सिचुएशन को लेकर ज्यादा टेंशन नहीं लेते और OTP दे देते हैं।

 
Best Mobiles in India

Read more about:
English summary
E-commerce sites like Amazon and Flipkart have introduced One Time Password (OTP) delivery verification process to fight online delivery frauds. In this process, customers are asked to check their delivery package and then share the OTP received on their phone with the delivery agents to confirm the receipt of the package.

बेस्‍ट फोन

तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X