बजट 2018 : इलेक्ट्रॉनिक आइटम्स पर पड़ी बजट की मार, ये चीजें होंगी महंगी

By Neha

    बजट 2018 शुरू हो चुका है। इस साल पेश हुए बजट ने घरेलू इलेक्ट्रॉनिक कंपनियों को तो खुश कर दिया है, लेकिन उन उपभोक्ताओं के लिए बुरी खबर आ चुकी है, जो विदेशी प्रॉडक्ट खरीदना पसंद करते हैं। वित्त मंत्री अरूण जेटली ने बजट पेश करते हुए बताया कि इस साल सरकार ने कस्टम ड्यूटी बढ़ाकर दोगुना 20 फीसदी कर दिया है।

    इसका सीधा असर उन निर्माता और उपभोक्ताओं पर होगा, जो देश के बाहर से कोई प्रॉडक्ट खरीदते हैं। इलेक्ट्रॉनिक आइटम्स में इस साल टीवी, मोबाइल, स्मार्ट वॉच, लैपटॉप जैसे अन्य प्रॉडक्ट की कीमतें बढ़ जाएंगी जिसका सीधा असर आपकी जेब पर पड़ेगा।

    बजट 2018 : इलेक्ट्रॉनिक आइटम्स पर पड़ी बजट की मार, ये चीजें होंगी महंगी

    कस्टम ड्यूटी बढ़ने के बाद देश के बाहर से खरीदे गए पेन से लेकर स्मार्टफोन, लैपटॉप और टीवी जैसे हर इलेक्ट्रॉनिक आइटम को खरीदने के लिए पहले से ज्यादा पैसे चुकाने होंगे। वित्त मंत्री जेटली ने अगले वित्त वर्ष में विकास दर 7.2 से लेकर 7.4 फीसदी तक रहने का अनुमान लगाया है।

    कस्टम ड्यूटी बढ़ने का सबसे ज्यादा असर मोबाइल फोन पर होगा, क्योंकि सरकार ने मोबाइल फोन, स्मार्टवाचेस और वियरेबल डिवाइसेज पर कस्टम ड्यूटी को 15 प्रतिशत से बढ़ाकर 20 प्रतिशत तक कर दिया है। मोबाइल फोन लिथियम आयन बैटरी पर कस्टम ड्यूटी बढ़ाकर 15 फीसदी कर दी गई है। लैपटॉप भी महंगा हुआ है।

    How to start a secret coversation on facebook messenger? (Hindi)

    फूड प्रोसेसिंग, इलेक्ट्रोनिक्स पर 5 फीसदी की कस्टम ड्यूटी बढ़ाई गई। इलेक्ट्रॉनिक आइटम्स में सस्ती सिर्फ फिंगर प्रिंट स्कैनर मशीन ही हुई है। सरकार ने ये भी कहा कि देश में कैश पेमेंट कम हुआ है और लोग डिजिटल पेमेंट की तरफ बढ़ रहे हैं। हालांकि क्रिप्टो करंसी गैरकानूनी ही है।

    English summary
    Budget 2018 start ho chuka hai aur sarkar ne import items par custom duty ko 15 percent se badha kar 20 percent kar diya hai. custom duty badhne se electronics items costlier honge.
    Opinion Poll

    पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more