Celebrating Pride: प्राइड के 50 साल की याद में गूगल ने बनाया खास डूडल

|

गूगल ने आज अपने होमपेज पर LGBTQ+ प्राइड के नाम पर खास डूडल बनाया है। दरअसल, प्राइड परेड पूरे एलजीबीटीक्यू + समुदाय के लिए उत्सव और मुक्ति का प्रतीक माना जाता है। इसको 50 साल हो चुके हैं। जून का महीने इस समुदाय का प्राइड मंथ होता है।

Celebrating Pride: प्राइड के 50 साल की याद में गूगल ने बनाया खास डूडल

 

डूडल नैट स्वाइनहार्ट द्वारा बनाया गया डूडल जश्न, सम्मान और पूरे LGBTQI+ समुदाय के उत्सव और मुक्ति के साथ-साथ गर्व का भी प्रदर्शन करता है। इस डूडल में उनकी यात्रा को दर्शाया गया है। डूडलर नैट स्वाइनहार्ट ने बताया कि न्यूयॉर्क शहर में क्रिस्टोफर स्ट्रीट पर परेड का आयोजन होता है।

Celebrating Pride: प्राइड के 50 साल की याद में गूगल ने बनाया खास डूडल

इस परेड में LGBTQ+ के लोग हिस्सा लेते हैं। यह परेड कई देशों में निकाली जाती है। "नैट स्वाइनहार्ट ने बताया कि गर्व के 50 साल का जश्न मनाने में, मेरे सहकर्मी सिंथिया चेंग को सबसे पहले विचार आया कि क्‍यों न हम परेड को ही चित्रित करें और इसे पूरे आकार और गति में बढ़ते हुए दशकों को दिखाएं।

Celebrating Pride: प्राइड के 50 साल की याद में गूगल ने बनाया खास डूडल

उन्‍होंने बताया कि रंग की भी अवधारणा में एक बड़ी भूमिका होती है, क्योंकि मैं समुदाय की जीवंतता और ऊर्जा को चित्रित करना चाहता था। जबकि सब कुछ ग्रे रंग के रंगों के साथ शुरू होता है, हम पहली बार सामुदायिक स्थान के माध्यम से इंद्रधनुष देखते हैं।

Celebrating Pride: प्राइड के 50 साल की याद में गूगल ने बनाया खास डूडल

 

रंग तब फैलना शुरू होता है, पहले अलग-अलग लोगों में, फिर उनके आस-पास के शहर तक, जब तक कि यह पूरी रचना को खत्म नहीं कर देता। मैं यह भी चाहता था कि रंग की प्रगति सार्थक हो, आरंभिक गुलाबी त्रिकोण के साथ जो समुदाय द्वारा मुक्ति के प्रतीक के रूप में पुन: प्राप्त किया गया था।

Celebrating Pride: प्राइड के 50 साल की याद में गूगल ने बनाया खास डूडल

गूगल डूडल की वेबसाइट पर उन्होंने कहा, '' हम बैंगनी से लाल तक इंद्रधनुष के माध्यम से पीछे की ओर जाते हैं, जब तक कि हम सभी रंगों को एक साथ नहीं देख पाते। '' आपको बता दें कि इसकी शुरुआत अमेरिका से हुई। एक वक्‍त में अमेरिका में भी समलैंगिकता गुनाह था। 1950 में इसे मान्यता देने की लड़ाई शुरू हो चुकी थी।

Celebrating Pride: प्राइड के 50 साल की याद में गूगल ने बनाया खास डूडल

1960 के बाद से बदलाव आने शुरू हुए। अमेरिका में कुछ गे बसेरे और बार का विरोध होने के बाद अमेरिका में जितने भी समलैंगिक और ट्रांसजेंडर थे वे सड़कों पर उतर आए और यह दुनिया की पहली प्राइड परेड बन गई थी। प्राइड के 50 साल होने पर इस साल न्यूयॉर्क अंतर्राष्ट्रीय एलजीबीटी प्राइड परेड की मेजबानी करेगा। जिसे स्टोनवैल 50 के रूप में जाना जाता है।

Celebrating Pride: प्राइड के 50 साल की याद में गूगल ने बनाया खास डूडल

Most Read Articles
 
Best Mobiles in India

English summary
Today Google has made a special doodle on LGBTQ + pride in its homepage. Actually, the Pride Parade is considered as a symbol of festivity and liberation for the entire LGBTQ + community. It has been 50 years. The month of June is the pride of this community. Let us explain this in detail.

बेस्‍ट फोन

तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more