स्पेस टेक्नोलॉजी की मदद से होगी गंगा नदी की सफाई

    भारत की सबसे पवित्र मानी जाने वाली गंगा नदी के रख-रखाव की तैयारी की जा रही है। हालांकि गंगा नदी के रख-रखाव और स्वच्छ बनाने की बात कोई नहीं है। इसकी तैयारी काफी सालों से चली आ रही है। दरअसल, इस बार गंगा नदी को स्वच्छ और बेहतर बनाने के लिए कुछ विशेष तैयारी की जा रही है।

    स्पेस टेक्नोलॉजी की मदद से होगी गंगा नदी की सफाई

     

    बता दें, नेशनल मिशन फॉर क्लीन गंगा (NMCG) के लिए स्पेस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जाएगा। एक शीर्ष अधिकारी द्वारा यह जानकारी दी गई है। स्पेस टेक्नोलॉजी के जरिए नदियों का बेहतर डाटा मिल सकेगा और इसके जरिए प्रोजेक्ट की योजना बनाने और उसकी कंट्रोलिंग में भी मदद मिलेगी। पीटीआई की खबर के अनुसार नेशनल मिशन फॉर क्लीन गंगा के डायरेक्टर जनरल राजीव रंजन मिश्रा ने कहा कि डिपार्टमेंट ऑफ स्पेस की मदद लेने के अलावा सर्वे जनरल ऑफ इंडिया के डाटा का भी इस्तेमाल किया जाएगा।

    स्पेस टेक्नोलॉजी के मदद से साफ होगी गंगा

    पीटीआई की खबर की मानें तो नेशनल मिशन फॉर क्लीन गंगा के डायरेक्टर जनरल राजीव रंजन मिश्रा ने कहा कि डिपार्टमेंट ऑफ स्पेस की मदद लेने के अलावा सर्वे जनरल ऑफ इंडिया के डाटा का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। हालांकि उन्होंने इसे लेकर ज्यादा जानकारी साझा नहीं की है।

    देखिए...! हैकर्स कैसे आपके क्रेडिट / डेबिट कार्ड की डिटेल्स चुरा लेते हैं

    मिश्रा ने कहा कि इस तरह के डाटा से नदियों की परियोजनाओं को बेहतर तरीके से मॉनिटर करने में मदद मिलेगी और इससे अच्छी योजनाएं भी बनाई जा सकेंगी। बता दें, मिश्रा ने यह जानकारी G-Governance of Namami Gange programme through Geospatial Technology नाम के इवेंट में दी।

    English summary
    Some special preparations are being made to clean and improve the Ganges river. Space Technology for National Mission for Clean Ganges (NMCG) will be used. This information has been given by a top official. Through the Space Technology, the rivers will get better data and through this, planning and controlling the project will be done.
    Opinion Poll

    पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more