उत्‍तराखंड में लगेगें मौसम की सटीक भविष्यवाणी देने वाले डॉप्‍लर राडार

Posted By:

भारत सरकार ने पूरे हिमालयी क्षेत्र में मौसम की सटीक भविष्यवाणी के लिए 15 अत्याधुनिक डॉप्लर रडार लगाने का फैसला किया है। इस इलाके में मौसम के अत्यधिक उतार-चढ़ाव के कारण जान-माल का अत्यधिक नुकसान होता है। जैसा कि पिछले महीने उत्तराखंड में बाढ़ से हुआ। पूरे देश में अभी 14 डॉप्लर रडार लगे हैं। नए 15 रडार लगने से उत्तर भारत के दुर्गम हिमालयी इलाकों में मौसम का पूर्वानुमान लगाना आसान हो जाएगा।

हिमालयी क्षेत्र में 10 राज्य हैं और ये देश के 16 प्रतिशत क्षेत्रफल में विस्तृत हैं। इस इलाके में भारी बारिश, बाढ़, बादल फटने, भूस्खलन जैसी घटनाओं से भारी नुकसान होता है। इस परियोजना की अगुवाई कर रहे भू विज्ञान मंत्रालय के अनुसार अब उत्तर भारत में डॉप्लर नेटवर्क को मजबूत बनाना है। उत्तर भारत में डॉप्लर रडारों की संख्या को 4 से बढ़ाकर अगले 3 साल में 12 तक पहुंचाया जाएगा।

उत्‍तराखंड में लगेगें मौसम की सटीक भविष्यवाणी देने वाले डॉप्‍लर राडार

मंत्रालय के सचिव शैलेश नायक ने जानकारी देते हुए बताया कि 15 में से तीन डॉप्लर रडार उत्तराखंड में लगाए जाने की योजना है। जबकि सभी 15 डॉप्लर रडार 12वीं पंचवर्षीय योजना (2012-17) के दौरान लगा दिए जाएंगे। डॉप्लर रडार भारी बारिश का अनुमान लगाने में सक्षम होते हैं और इससे शीघ्रता से चेतावनी जारी करने में मदद मिलती है। डॉप्लर रडार 400 किलोमीटर एरिया में मौसम की एकदम सटीक भविष्यवाणी करने में सक्षम होता है। उत्तर भारत में अभी यह केवल जयपुर, दिल्ली, लखनऊ और पटियाला में स्थापित है।

नायक ने कहा कि अब उत्तराखंड, जम्मू एवं कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और अन्य राज्यों पर ध्यान दिया गया है। उत्तराखंड में देहरादून, नैनीताल और जोशीमठ में डॉप्लर रडार लगाए जाने की उम्मीद है। पूर्वोत्तर के राज्यों के लिए 7 डॉप्लर राडार तय किए गए हैं और उनकी जरूरत के हिसाब से इनको लगाया जाएगा।

Please Wait while comments are loading...
काम की खबर: इस कोड से कराएं Jio रिचार्ज, 76 रुपए हो जाएंगे वापस
काम की खबर: इस कोड से कराएं Jio रिचार्ज, 76 रुपए हो जाएंगे वापस
VIDEO: स्‍वतंत्रता दिवस पर आतंकियों के गढ़ में अकेली महिला बोली 'भारत माता की जय'
VIDEO: स्‍वतंत्रता दिवस पर आतंकियों के गढ़ में अकेली महिला बोली 'भारत माता की जय'
Opinion Poll

Social Counting