आने वाले समय में 24 नहीं बल्कि होंगे दिन में 25 घंटे, जानें क्‍यों?

    कई बार हमारे लिए दुनिया में एक दिन के 24 घंटे काफी नहीं होते। हमें हमारे आलस या कम समय के चलेगा ऐसे कई काम रह जाते हैं जिन्‍हें हमें अगले दिन के लिए छोड़ना पड़ता है। अगर आप एक ऐसा सोचते हैं कि काश हमारे पास दिन में 24 की बजाए 25 घंटे हों, तो आपके लिए खुशखबरी है। कुछ सालों बाद दिन 24 के बजाए 25 घंटे होने वाले हैं।

    आने वाले समय में 24 नहीं बल्कि होंगे दिन में 25 घंटे, जानें क्‍यों?

    दरअसल, अरबों सालों से चंद्रमा और धरती के बीच की दूरी बढ़ती जा रही है। चंद्रमा से दूरी बढ़ने की वजह से धरती पर दिन लंबे होते जा रहे हैं। 1.4 अरब साल पहले जब चंद्रमा धरती से दूर नहीं था तो दिन मात्र 18 घंटे और 41 मिनट का हुआ करता था। लेकिन धीरे-धीरे दिन में घंटे बढ़ते चले गए और यह बढ़कर अब 24 घंटे हो गया है।

    अमेरिका में विस्कॉन्सिन मैडिसन विश्वविद्यालय के प्रोफेसर स्टीफन मेयर्स के मुताबिक, अपनी गति की वजह से जैसे-जैसे चंद्रमा धरती से दूर हो रहा है। इसकी वजह से धरती की गति भी कम हो रही है, क्योंकि ब्रह्मांड में पृथ्वी की गति दूसरे ग्रहों से प्रभावित होती है, जो उस पर बल डालते हैं। वैज्ञानिकों के मुताबिक, लाखों वर्षों के पृथ्वी और चंद्रमा की गति के अध्ययन से पता चलता है कि पृथ्वी और चंद्रमा के बीच दूरी बढ़ रही है, जिसकी असर दिन के घंटों पर पड़ता है।

    जियोसाइंस में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक चंद्रमा की ऊपरी सतह और अंदरुनी हिस्से के बीच में पर्याप्त मात्रा में पानी है, हालांकि रिपोर्ट में कहा गया है कि आंतरिक स्रोतों से चांद पर पानी होने का पता नहीं चलता है। अरबों सालों से सोलर सिस्टम में होने वाले बदलावों की वजह से धरती पर दिन की लंबाई बढ़ती जा रही है। सोलर सिस्टम में होने वाले ये छोटे-छोटे बदलाव लाखों सालों बाद एक बड़े बदलाव की वजह बनते हैं। पिछले साल प्रोफेसर मेयर्स और उनके कलिग्स ने धरती पर मिले 9 करोड़ साल पुराने एक पत्थर की स्टडी करके अस्त-व्यस्त सोलर सिस्टम के बारे में खुलासा किया था।

    Recover deleted notification on android (HINDI)

    उदाहरण के लिए, चंद्रमा अभी प्रति वर्ष 3.82 सेमी की दर से पृथ्वी से दूर जा रहा है लेकिन पिछले कुछ वर्षों में देखा जाए तो यह एक गंभीर समस्या है। लगभग 1.5 अरब साल पहले, चंद्रमा इतना करीब था कि पृथ्वी के साथ गुरुत्वाकर्षण फोर्स ने उपग्रह को अलग कर दिया होता।

    English summary
    Sometimes 24 hours are not enough in a day but do not worry because in the future Earth might have 25 hours in a day.
    Opinion Poll

    पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more