1 घंटे में तैयार हो जाते हैं ये घर

Posted By:

एक्‍स कंटेनर प्रोजेक्‍ट उन प्रोजेक्‍ट्स में से एक है जो भूकंप पीडि़तों की सहायता के लिए शुरु किए गए हैं, एक्‍स कंटेनर प्रोजेक्‍ट को आर्किटेक यासूताका नाओवेयर रिसॉर्ट के साथ मिलकर चला रहे हैं जिसके अंतर्गत उन लोगों को कम समय में घर मुहैया कराता है जिनके घर भूकंप के दौरान तहस-न‍हस हो गए हैं। ऐसे घरों को बनाने के लिए जहाजों में प्रयोग होने वाले कंटेनरों का प्रयोग किया जाता है।

इस कंटेनरों के अंदर पहले से घर के हर भाग को बनाया जाता है, इसके बाद जहां पर ऐसे घरों को बनाने की जरूरत पड़ती है इन कंटेनरों को एक-एक करके सेट कर दिया जाता है। इससे न सिर्फ घर बनाने की लागत कर आती है बल्‍कि कम समय में कहीं पर घर बनाया जा सकता है। जापान में आने वाले भूकंप की संख्‍या किसी भी दूसरे देश की तुलना में काफी अधिक है।

एक्‍स कंटेनर प्रोजेक्‍ट के तहत बनाए गए घरों की डिज़ाइन

लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

कंटेनर होम उन लोगों को काफी सहूलियत देंगे जिनके घर भूकंप के कारण नष्‍ट हो जाते हैं। इन्‍हें बनाने में न सिर्फ कम समय लगता है बल्‍कि ये काफी मजबूत भी होते हैं। 

ये कंटेनर पहले से फैक्‍ट्री में बनाकर रख लिए जाते हैं इसके बाद जहां पर भी घरों की अचानक जरूरत आ पड़ती है इन्‍हें एसेंबल कर दिया जाता है। 

इन घरों में आम घरों की तरह कमरे, बाथरूम और किचन भी होता है। 

कंटेनर घरों के हर हिस्‍से को क्रेनों की मदद से जोड़ा जाता है। 

घर के अंदर लकड़ी की फिनिशिंग होती है जो भार में इन्‍हें हल्‍का और मजबूत बनाती है। 


लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

English summary
japan, architect yasutaka yoshimura has created a series of shipping container shelters that remain low-cost and high-quality.
Please Wait while comments are loading...
WhatsApp के जरिए बेची जा रही थीं लड़कियां, ऐसे हुआ खुलासा कि दंग रह गई पुलिस
WhatsApp के जरिए बेची जा रही थीं लड़कियां, ऐसे हुआ खुलासा कि दंग रह गई पुलिस
टॉइलट में जन्म के साथ ही फ्लश हो गई नवजात, 2 घंटे बाद सीवेज टैंक से जिंदा निकली
टॉइलट में जन्म के साथ ही फ्लश हो गई नवजात, 2 घंटे बाद सीवेज टैंक से जिंदा निकली
Opinion Poll

Social Counting