फेसबुक ने कहा अश्‍लील है जैन मुनि की फोटो

Posted By:

छत्तीसगढ़ का जैन समाज फेसबुक के क्रिया कलापों से नाराज हो गया है। फेसबुक ने जैनियों के दिगंबर पंथी मुनि के फोटो को अश्लील बताकर अकाउंट से हटा दिया। साथ ही अपलोड करनेवाले को अकाउंट ब्लॉक करने की चेतावनी दी है। फेसबुक की इस कार्रवाई और टिप्पणी से छत्तीसगढ़ के जैन समाज में भारी नाराजगी है। समाज के पदाधिकारियों ने फेसबुक की कार्रवाई को निंदनीय बताते हुए इस पर गंभीर आपत्ति दर्ज कराई है।

जशपुर जिले के कुनकुरी निवासी व्यवसायी अंशुल रारा ने 17 जून को मुनि पुण्यनंदीजी के तीन फोटो स्वयं के फेसबुक अकाउंट से अपलोड किए थे। फोटो अपलोड करने के कुछ ही देर बाद फेसबुक टीम ने अंशुल को एक संदेश भेजा, जिसमें मुनि के फोटो को अश्लील और आपत्तिजनक बताते हुए अकाउंट से हटाने की जानकारी दी गई थी।

फेसबुक ने कहा अश्‍लील है जैन मुनि की फोटो

फेसबुक ने उसका अकाउंट 48 घंटे के लिए सस्पेंड भी कर दिया और भविष्य में ऐसे फोटो लोड करने पर अकाउंट को हमेशा के लिए ब्लॉक करने की चेतावनी भी दी। इसकी जानकारी अंशुल ने समाज के लोगों को दी। इसके बाद जैन समाज फेसबुक से खासा नाराज बताया जा रहा है।

इसके बाद अंशुल ने फेसबुक को ई-मेल किया है कि खुला शरीर और मोर पंख जैन समाज के दिगंबर पंथ के मुनियों की पहचान होते हैं। इन्हें अश्लील बताकर फेसबुक ने दिगंबर जैन मतावलंबियों की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाई है। अंशुल ने फेसबुक को माफी मांगने और फोटो को दोबारा अपलोड करने की मांग की है। उसने बताया कि प्रसिद्ध मुनि सौरभ सागर के फोटो को भी फेसबुक ने 'अश्लील व आपत्तिजनक' बताते हुए हटा दिया था।

इस मामले में छत्तीसगढ़ दिगंबर जैन समाज के अध्यक्ष गजेंद्र जैन ने जैन मुनियों के फोटो को अश्लील बताए जाने को घोर आपत्तिजनक बताया है और कहा है की समाज इसकी कड़ी शब्दों मे भर्त्सना करता है। बहरहाल, इसके बाद से समाज और फेसबुक के मध्य विवाद बढ़ने के आसार दिख रहे हैं।

Please Wait while comments are loading...
दो मासूमों को लेकर नदी में कूदी मां खुद तैरकर बाहर निकल आई, बच्चों की मौत
दो मासूमों को लेकर नदी में कूदी मां खुद तैरकर बाहर निकल आई, बच्चों की मौत
मेडिकल कॉलेज की 54 छात्राएं करती रहीं जूनियर्स पर एडल्ट अत्याचार, जुर्माना भरेंगी 50-50 हजार
मेडिकल कॉलेज की 54 छात्राएं करती रहीं जूनियर्स पर एडल्ट अत्याचार, जुर्माना भरेंगी 50-50 हजार
Opinion Poll

Social Counting