फेसबुक और बीएसएनएल की साझेदारी से भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में पहुंचेगा वाई-फाई!

Written By:

भारत में पिछले कुछ समय से इंटरनेट का प्रयोग काफी तेजी से बढ़ा है। सोशल मीडिया और खासकर फेसबुक का ही क्रेज है कि घर हो या दफ्तर हर जगह इंटरनेट की जरुरत पढ़ती है। लेकिन भारत के कई ग्रामीण इलाके अब भी इस सेवा से वंछित हैं। फेसबुक के संस्थापक मार्क जुकरबर्ग भी भारत को फेसबुक के लिए एक उभरता हुआ मार्केट मानते हैं।

बिना इंजीनियरिंग की डिग्री, आप खोल सकते हैं ये एंड्राइड फ़ोन!

फेसबुक और बीएसएनएल की साझेदारी से भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में पहुंचेगा वाई-फाई!

हाल ही में मार्क जुकरबर्ग भारत दौरे पर आए थे। अपनी इस यात्रा के दौरान उन्होंने जुकरबर्ग ने कहा कि वह भारत के ग्रामीण क्षेत्रों को इंटरनेट से जोड़ेंगे। अब फेसबुक ने बीएसएनएल से साझेदारी की है। फेसबुक व बीएसएनएल की इस साझेदारी से भारत के कई ग्रामीण क्षेत्र इंटरनेट से जुड़ पाएंगे।

ये प्रोजेक्टर फोन आ सकते है आपके काम

फेसबुक और बीएसएनएल की साझेदारी से भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में पहुंचेगा वाई-फाई!

फेसबुक व बीएसएनएल (भारतीय संचार निगम लिमिटेड) साथ मिलकर देश के ग्रामीण इलाकों में करीब 100 वाईफाई लगाएंगी। जिसके लिए फेसबुक प्रति वर्ष पांच करोड़ रुपए खर्च करेगा। इस कार्य के लिए दोनों कि कंपनियों के बीच तीन साल तक का समझौता हुआ है।

श्याओमी ने लॉन्च की 7 सालों तक चार्ज रहने वाली बैटरी

फेसबुक और बीएसएनएल की साझेदारी से भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में पहुंचेगा वाई-फाई!


बीएसएनएल के चेयरमैन व प्रबंध निदेशक अनुपम श्रीवास्तव के अनुसार ‘फेसबुक पश्चिमी और दक्षिणी भारत के गांवों में बीएसएनएल की साझेदारी से 100 वाईफाई हॉटस्पॉट लगाएगी। जिसके तहत हम 25 हॉटस्पॉट पहले ही स्थापित कर चुके हैं।'

Read more about:
English summary
facebook and bsnl comes together to provide internet in rural area. MArk Zuckerberg had said that facebook will help india for this. They will provide 100 wifi hotspot in india.
Please Wait while comments are loading...
रामनाथ कोविंद की जीत में केजरीवाल के लिए इससे बढ़िया खबर क्या होगी?
रामनाथ कोविंद की जीत में केजरीवाल के लिए इससे बढ़िया खबर क्या होगी?
फ्री नहीं रिलायंस का जियो फोन, दूर कर लीजिए ये गलतफहमी
फ्री नहीं रिलायंस का जियो फोन, दूर कर लीजिए ये गलतफहमी
Opinion Poll

Social Counting