फ्लिपकार्ट ने 'कहा 'सॉरी' जानिए क्‍यों ?

Posted By:

ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट ने 'बिग बिलियन डे' ऑफर के दिन पैदा हुई समस्याओं के लिए खेद जताया है। कंपनी के सह-संस्थापक सचिन और बिन्नी बंसल ने एक बयान जारी कर वेबसाइट अवरुद्ध होने और कई उत्पादों के स्टॉक समाप्त होने जैसी समस्याओं के लिए खेद जताया है। 

उन्होंने अपने बयान में कहा, "कल (सोमवार) का दिन हमारे लिए महत्वपूर्ण था। हम इसे आपके लिए भी महत्वपूर्ण बनाना चाहते थे। लेकिन आखिरकार हमें पता चला कि यह आपके लिए उतना खुशगवार दिन नहीं रहा। उन्होंने कहा, "हम आपकी उम्मीदों पर खरे नहीं उतर पाए।

फ्लिपकार्ट ने 'कहा 'सॉरी' जानिए क्‍यों ?

पढ़ैा: फ्लिपकार्ट पर 1 अरब हिट, 10 करोड़ डॉलर का सामान बिका

इसके लिए हमें वास्तव में खेद है। बयान में कहा गया है कि फ्लिपकार्ट के हर सदस्य ने महीनों से इस दिन की तैयारी की थी। फ्लिपकार्ट ने बिग बिलियन डे के दिन सोमवार को कई उत्पादों पर भारी छूट की पेशकश की थी, जिसके कारण बड़ी संख्या में खरीदार वेबसाइट पर टूट पड़े और वेबसाइट ने काम करना बंद कर दिया था। हालांकि बाद में इस समस्या को ठीक कर लिया गया था।

लेकिन बहुत से उत्पादों के स्टॉक ऑफर शुरू होने के कुछ ही समय बाद समाप्त हो गए थे। फ्लिपकार्ट के मुताबिक सोमवार को 15 लाख लोगों ने फ्लिपकार्ट से खरीदारी की थी। फ्लिपकार्ट ने हालांकि कहा कि लाखों अन्य लोग खरीदारी नहीं कर पाए, जो हमारे लिए स्वीकार्य नहीं है।

पढ़ें: पीसी में एक साल तक कैसे प्रयोग करें फ्री एंटीवॉयरस ?

फ्लिपकार्ट ने 'कहा 'सॉरी' जानिए क्‍यों ?

कंपनी ने कहा कि उसे ग्राहकों का विश्वास जीतने में सात साल लगा, लेकिन सोमवार को वह विश्वास टूट गया। उसने कहा कि हालांकि उसे कई सीख मिली है। कंपनी ने कहा कि भविष्य में ऐसी किसी भी समस्या के नहीं पैदा होने की पूरी तैयारी करेगी। कंपनी ने बताया कि उसने सोमवार को 5,000 सर्वर लगाए हुए थे और उसे सामान्य दिनों की अपेक्षा 20 गुणा अधिक ग्राहकों के वेबसाइट पर पहुंचने की उम्मीद थी। लेकिन ग्राहकों की संख्या उससे भी आगे निकल गई।

Please Wait while comments are loading...
कौशांबी में जलती चिता से पुलिस ने उठवाई लाश, जानिए वजह...
कौशांबी में जलती चिता से पुलिस ने उठवाई लाश, जानिए वजह...
गोरखपुर हादसे में डीएम ने सौंपी जांच रिपोर्ट, हुए चौंकाने वाले खुलासे
गोरखपुर हादसे में डीएम ने सौंपी जांच रिपोर्ट, हुए चौंकाने वाले खुलासे
Opinion Poll

Social Counting