गूगल और फेसबुक को भरना होगा 450,000 डॉलर का हर्जाना

    |

    गूगल और फेसबुक काफी समय में परेशानी का सामना कर रहे हैं। हाल ही में दोनों कंपनियों पर आरोप लगाया गया था कि यह कंपनियां अपनी साइट्स पर दिए जाने वाले कैंपेन ऐड का उचित रिकॉर्ड रखपाने में असफल रहे हैं। जिसके चलते कंपनियों को भुगतान राशि देने के लिए कहा गया था।

    गूगल और फेसबुक को भरना होगा 450,000 डॉलर का हर्जाना

     

    इसी मामले को लेकर वॉशिंगटन स्टेट के अटॉर्नी जनरल Bob Ferguson ने बताया कि गूगल और फेसबुक एक आरोप को निपटाने के लिए $455,000 की राशि देने के लिए तैयार हो गए हैं। Ferguson ने बताया कि जून में इन कंपनियों के खिलाफ दो मुकदमें दायर किए गए थे। इन आरोपों के चलते गूगल $217,000 (लगभग 1.5 करोड़ रुपये) और फेसबुक $238,000 (लगभग 1.7 करोड़ रुपये) का भुगतान करने कौ तैयार हो गए हैं।

    कंपनियां मामला सुलझने से खुश

    कंपनियो पर आरोप लगाया गया था कि उन्होंने पॉलटिकल एड में ट्रांसपैरेंसी का पालन नहीं किया था। इसी मामले को लेकर फेसबुक के स्पोक्सपर्सन Beth Gautier ने कहा है कि वह इस मामले के सेटल होने पर काफी खुश हैं। Gautier ने कहा कि हम चुनाव अखंडता की रक्षा और विदेशी हस्तक्षेप को रोकने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं।

    यह भी पढ़ें:- क्या आपने गूगल पर भिखारी सर्च किया है...?

    हमें उम्मीद है कि फेसबुक पर आने वाले सभी विज्ञापन पारदर्शी तरीके से काम करेंगे। इसी के साथ-साथ उन्होंने कहा कि हम फेसबुक का इस्तेमाल किसी पॉलिटिकल एजेंडे को प्रमोट होने में नहीं होने देंगे। गूगल ने एक बयान जारी कर कहा है कि वह भी अपने प्लेटफॉर्म का किसी भी गलत तरीके से इस्तेमाल नहीं होने देगी।

    English summary
    Google and Facebook are facing troubles in a lot of time. Recently, both companies were charged that these companies have failed to keep proper records of the campaign ad on their sites. That's why the companies were asked to pay the payment. So Google and Facebook are now ready to pay the damages.

    पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more