गूगल ने डूडल के जरिए महान पशु-प्रेमी को किया याद

    |

    क्या आपने आज गूगल के डूडल पर गौर किया है...? गूगल के डूडल में आज आपको एक इंसान मगरमछ के साथ किसी जंगल में दिखाई दे रहा है। इससे आपको पता चल ही गया होगा कि आज गूगल ने किसी जंगल और जानवर प्रेमी इंसान को याद किया है। आपका अंदाजा बिल्कुल ठीक है। गूगल ने आज अपने डूडल के जरिए ऑस्ट्रेलिया के पशु-प्रेमी इंसान को याद किया है। आइए आपको इनके बारे में कुछ जानकारी देते हैं।

    गूगल ने डूडल के जरिए महान पशु-प्रेमी को किया याद

    लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्दी गिज़बोट फेसबुक पेज
    जानवरों के साथ बिताई जिंदगी
     

    जानवरों के साथ बिताई जिंदगी

    ऑस्ट्रेलिया के इस इंसान का नाम स्टीव इरविन (Steve Irwin) है। यह ऑस्ट्रेलिया के मशहूर पशु-प्रेमी है। इन्हें जानवरों से काफी प्यार है और उन्होंने अपने जीवन काफी वक्त जानवरों के साथ ही व्यतीत किया है। आज उनके 57वें जन्मदिन के अवसर पर गूगल ने उन्हें अपने डूडल पर जगह देकर याद किया है।

    ऑस्ट्रेलिया के जू-कीपर

    स्टीव इरविन के पिता ने ऑस्ट्रेलिया में चिड़ियाघर स्थापित किया था। स्टीव ने अपना ज्यादातर वक्त अपने पिता के चिड़ियाघर में एक जू-कीपर के रूप में ही बिताया था। स्टीव इरवीन जू-कीपर के साथ-साथ वन्य जीव संरक्षक और एक टीवी सेलेब्रिटी भी थे। आपको बता दें कि स्टीव इरविन ने टीवी चैनल डिस्कवरी और नेशनल जियोग्राफी जैसे चैनलों में कई शो होस्ट किए हैं। आपने भी उनके कई शो देखें होंगे।

    मगरमच्छों से सबसे ज्यादा प्यार
     

    मगरमच्छों से सबसे ज्यादा प्यार

    हालांकि स्टीव इरविन को सभी जानवरों से काफी प्यार था लेकिन उन्हें सबसे ज्यादा प्यार मगरमच्छों से था। मगरमच्छों पर आधारित प्रसिद्ध और काफी लोकप्रिय टीवी शो क्रोको फाइल्स', ‘द क्रोकोडाइल हंटर डायरीज' और ‘न्यू ब्रीड' को स्टीव ने ही होस्ट किया था। आपने उनके कई मगरमच्छों वाले प्रोग्राम को देखा होगा। स्टीव की तरह उनकी पत्नी को भी जानवरों से काफी प्यार था। उनकी पत्नी का नाम टैरी था। टैरी हर शो में उनके साथ नजर आती थीं। इस वजह से लोग इन्हें प्यार से ‘क्रोकोडाइल हंटर' के नाम से बुलाते थे।

    गूगल ने किया याद

    जानवरों के बीच अपनी जिंदगी बिताने वाले इस पशु-प्रेमी स्टीव इरविन का जन्म 22 फरवरी, 1962 में हुआ था। स्टीव के जन्मदिन पर गूगल ने उन्हें एक-दो नहीं बल्कि 6-6 स्लाइड बनाकर याद किया है। इन 6 स्लाइडों में गूगल में उनके जू-कीपर और मगरमच्छों से प्यार को दर्शाया है।

    मछली के काटने से हुई मौत

    इस महान पशुप्रेमी की मौत 2006 में हो गई थी। एक टीवी शो में पानी के अंडर शूटिंग करने के दौरान उनकी मौत हो गई थी। उस अंडरवाटर शूट के दौरान उन्हें एक स्टिंग मछली ने काट लिया था, जिसकी वजह से उनकी मौत हो गई थी। जानवरों और खासतौर पर मगरमच्छों से प्यार की वजह से वो पूरी दुनिया में मशहूर थे। उन्होंने कई जानवरों की नई प्रजाति भी खोजी थी। उनके इस महान योगदान के लिए दुनिया उन्हें आज भी याद करती है।

    मछली के काटने से हुई मौत

    इस महान पशुप्रेमी की मौत 2006 में हो गई थी। एक टीवी शो में पानी के अंडर शूटिंग करने के दौरान उनकी मौत हो गई थी। उस अंडरवाटर शूट के दौरान उन्हें एक स्टिंग मछली ने काट लिया था, जिसकी वजह से उनकी मौत हो गई थी। जानवरों और खासतौर पर मगरमच्छों से प्यार की वजह से वो पूरी दुनिया में मशहूर थे। उन्होंने कई जानवरों की नई प्रजाति भी खोजी थी। उनके इस महान योगदान के लिए दुनिया उन्हें आज भी याद करती है।

    लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्दी गिज़बोट फेसबुक पेज

    English summary
    Have you noticed Google's doodles today? Today in a Google doodle, you see a human being in a jungle with a lot of people. You may have come to know that today Google has remembered a jungle and animal lover. Google today remembered Australia's animal-loving person through its doodles. Come tell me about them.

    पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more