Subscribe to Gizbot

अब आपके मेल नहीं पढ़ेगा गूगल, आखिर क्या है वजह ?

Written By:

जीमेल यूजर्स के लिए एक अच्छी खबर सामने आई है। गूगल ने हाल ही में ऑफिशियल अनाउंसमेंट किया है कि अब वह विज्ञापन के लिए यूजर्स के मेल नहीं स्कैन करेगा। बता दें कि गूगल पहले यूजर्स के मेल को स्कैन कर जानकारी इक्टठी करता था और उस आधार पर उन्हें विज्ञापन उपलब्ध कराता था। विज्ञापन प्रोवाइड कराने के लिए अब गूगल, यूट्यूब और गूगल सर्च हिस्ट्री का सहारा लेगा।

अब आपके मेल नहीं पढ़ेगा गूगल, आखिर क्या है वजह ?

दुनिया के सबसे बड़े सर्च इंजन गूगल ने शुक्रवार को आधिकारिक तौर पर घोषणा कर दी है कि अब फ्री जीमेल यूजर्स के मेल को स्कैन नहीं किया जाएगा। गूगल की पुरानी पॉलिसी में पहले यूजर्स के मेल्स को रीड कर उन्हें उनकी पसंद के अनुसार विज्ञापन उपलब्ध कराए जाते थे। बता दें कि जीमेल जीमेल की पेड सेवा में पहले से ही विज्ञापनों के लिए यूजर्स के ईमेल की स्कैनिंग नहीं की जाती थी, लेकिन मुफ्त में जीमेल का इस्तेमाल करने वालों में इसे लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं थी।

गूगल की पॉलिसी जिसमें यूजर्स को ऐड दिखाने के लिए उनके मेल स्कैन किया जाना काफी विवादों में रहा है। गूगल पर प्रॉफिट के लिए यूजर्स की प्रायवेसी खत्म करने जैसे गंभीर आरोप भी लगते रहे हैं और इसके लिए गूगल को काफी आलोचना का शिकार होना पड़ा है।

ये फैसला गूगल की विज्ञापन टीम के बजाय उसके क्लाउड टीम की तरफ से आया है। गूगल क्लाउट टीम कॉर्पोर्ट कस्टमर्स को अट्रैक्ट करने के लिए लगातार काम कर रही है। गूगल की मदर कंपनी अल्फाबेट इंक का गूगल क्लाउड ऑफिस सॉफ्टेवयर (जी सूट) बेचता है।

कहा जा रहा है कि गूगल क्लाउड ने अपने प्रॉडक्ट को बाजार के दूसरे प्रॉडक्ट के मुकाबले में लाने के लिए ये फैसला लिया है। ऑफिस सॉफ्टवेयर के मामले में माइक्रोसॉफ्ट इस समय गूगल का सबसे बड़ा कॉम्पिटीटर है। गूगल की सीनियर वाइस प्रेसिडेंट डायना ग्रीन ने कहा, "हम इस मामले में स्थिति स्पष्ट करने जा रहे हैं।"

गूगल ने अपने ऑफिशियल स्टेटमेंट में कहा कि अब यूजर्स के मेल स्कैन करने की जगह उनके गूगल और यूट्यूब इत्यादि पर किए गए सर्च की हिस्ट्री के आधार पर करेगी। बता दें कि गूगल की कमाई का सबसे बड़ा सोर्स विज्ञापन हैं ऐसे में इस पॉलिसी के बाद गूगल को काफी सराहा जा रहा है।

Read more about:
English summary
Google has announced that it will stop scanning the inboxes of Gmails free users for ad rationalization at some point later this year.
फूलपुर उपचुनाव: अतीक के शपथ पत्र में हत्या समेत 120 मुकदमे, करोड़ों की संपत्ति
फूलपुर उपचुनाव: अतीक के शपथ पत्र में हत्या समेत 120 मुकदमे, करोड़ों की संपत्ति
आंख मारकर मशहूर हुई प्रिया का एक और कमाल, इस बार मार्क जकरबर्ग पर पड़ी भारी
आंख मारकर मशहूर हुई प्रिया का एक और कमाल, इस बार मार्क जकरबर्ग पर पड़ी भारी
Opinion Poll

Social Counting

पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot