हैकर की एक छोटी सी गलती की वजह से बच गए 67 अरब रूपए

Written By:

चोरी करने के लिए भी दिमाग होना चाहिए, ये बात इस खबर को पढ़ने के बाद आप समझ जाएंगे। बांग्लादेश में हैकर्स द्वारा एक छोटी सी गलती की वजह बैंक के अरबो रुपए चोरी होने से बच गए। एक स्पेलिंग मिस्टेक के चलते करीब 67 अरब रूपए की चोरी टल गई। हैकर्स पिछले महिने बांग्लादेश के सेंट्रक बैंक और न्यूयॉर्क फेड के बीच पैसा ट्रांसफर कर रहे थे इसके लिए उन्‍होंने बैंक का सिस्‍टम हैक किया इसके बाद पेमेंट ट्रांसफर करने के लिए सभी कोड चुरा लिए।

पढ़े: 5000 रुपए में खरीदें ये टॉप 10 3जी स्मार्टफोन!

हैकर की एक छोटी सी गलती की वजह से बच गए  67 अरब रूपए

अधिकारियों ने जानकारी देते हुए बताया इसके लिए हैकरों ने फेडरल रिजर्व बैंक को करीब तीन दर्जन बार रिक्वेस्ट की ताकि बांग्लादेश के बैंक खातों से फिलीपिन्स और श्रीलंका में बैठे लोगों के खातों में रकम ट्रांसफर कर दी जाए। इनमें से कुछ रकम फिलीपिन्स और श्रीलंका के बैंक खातों में ट्रांसफर भी कर दी गई लेकिन जब पांचवर बार फिर से श्रीलंका में एक एनजीओ को करीब 1 अरब 35 करो़ड रूपए भेजने की रिक्‍वेस्‍ट आई तो उसे रोक दिया गया क्‍योंकि हैकर्स ने एनजीओ की स्‍पेलिंग गलत लिख दी थी।

पढ़े: 6 टिप्स, अब फोटो हमेशा रहेंगी सेफ!

हैकर की एक छोटी सी गलती की वजह से बच गए  67 अरब रूपए
ये गलती एनजीओं के नाम में की गई थी जिसे foundation की जगह fandation लिख दिया गया था। इसके बाद बैंक को शक हुआ कि एक ही बार में किसी प्राइवेट कंपनी को इतनी बड़ी मात्रा में रकम ट्रांसर करना कोई मामूली बात नहीं। बांग्लादेश सेंट्रल बैंक का कहना है कि उसने चोरी हुए पैसा का कुछ हिस्सा बरामद कर लिया है और वह अब फिलिपीन्स में ऎंटी-मनी लॉन्ड्रिंग अथॉरिटीज के साथ मिलकर बाकी बची रकम को हासिल करने की कोशिश कर रहा है।

English summary
A spelling mistake in an online bank transfer instruction helped prevent a nearly $1 billion heist last month involving the Bangladesh central bank and the New York Federal Reserve, banking officials said.
Please Wait while comments are loading...
कौशांबी में जलती चिता से पुलिस ने उठवाई लाश, जानिए वजह...
कौशांबी में जलती चिता से पुलिस ने उठवाई लाश, जानिए वजह...
गोरखपुर हादसे में डीएम ने सौंपी जांच रिपोर्ट, हुए चौंकाने वाले खुलासे
गोरखपुर हादसे में डीएम ने सौंपी जांच रिपोर्ट, हुए चौंकाने वाले खुलासे
Opinion Poll

Social Counting