अगर अरविंद केजरीवाल माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ होते तो क्‍या होता

Posted By:

    हाल ही में भारत दुनिया में भारत का नाम रोशन करने वाले सत्‍या नाडेला को माइक्रोसॉफ्ट का सीईओ नियुक्‍त किया गया है। सोशल मीडिया से लेकर हर जगह सत्‍या नडेला को बधाई दी जा रही है।

    लेकिन जरा सोंचिए अगर माइक्रोसॉफ्ट सीईओ की कुर्सी में सत्‍या नाडेला की जगह दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के संस्थापक अरविंद केजरीवाल होते तो क्‍या होता। आइए देखते हैं क्‍या हाल होता माइक्रोसॉफ्ट का और उसे प्रोडेक्‍ट का।

    लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

    विंडो ऑफिस में सर्च करने वाला एसिस्‍टेंट मफ्लर लगाए हुए कुछ यू दिखता।

    केजरीवाल एडॉब रीडर के अपडेट रोकने के लिए धरना करना शुरु कर देते और कहते एडॉब तुम सुन रहे हो हम परेशान हो चुके है तुमहारे अपडेट से जैसे ही कंप्‍यूटर ऑन करों अपडेट आ जाता है।

    इंटरनेट एक्‍प्‍लोरर पर एक डोनेट बटन दी गई होती, अगर आप आगे ब्राउजि़ग करना चाहते हैं तो पहले डोनेट कीजिए फिर ब्राउज़ कीजिए।

    माइक्रोसॉफ्ट का एंटी वॉयरस 40 प्रतिशत स्‍कैन करने के बाद रुक जाता क्‍योंकि केजरीवॉल के लिए 40 प्रतिशत यानी पास।

    माइक्रोसॉफ्ट का लोगो बदल दिया जाता, माइक्रोसॉफ्ट में बने चारों खानों के बीच में झाड़ू लगा दी जातीं।

    विंडो के सभी सिक्‍योरिटी फीचर हटा लिए जाते क्‍योंकि केजरीवाल को सुरक्षा की कोई जरूरत नहीं।

    अगर आपको अपना विंडो अपग्रेड करना है तो इसके लिए हर मौहल्‍ले में एक अपग्रेड दरबार होता जहां पर लोग डिसाइड करते विंडो अपग्रेड किया जाए या नहीं।

    सोमनाथ भारती को माइक्रोसॉफ्ट की सपोर्ट टीम का हेड बनाया जाता। जो आपके घर में बिना इंविटेशन के विंडो क्रेश पीसी को सही करने आते। सोमनाथ भारतीय की जिम्‍मेदारी होती कि कोई विंडो क्रेश न हो।

    स्‍काइप का नाम बदल कर आप कनेक्‍ट कर दिया जाता क्‍योंकि केजरीवाल जमीन से जुड़े व्‍यक्ति है तो नाम स्‍काइ प कैसे हो सकता है।

    अपने पीसी को सुरक्षित रखने के लिए हर यूजर को फ्री मफलर मिलता।

    99 प्रतिशत लोग जेल में होंगे क्‍योंकि वे जेन्‍यून ओएस नहीं यूज़ कर रहे होंगे।

    अगर आपको क्रिकेट का स्‍कोर जानना होगा तो उसके लिए आरटीआई यानी सूचना के अधिकार का सहारा लेना होगा।

    काम में ट्रांसपेरेंसी होनी चाहिए यानी आपकी कोई भी प्राइवेट एक्‍टिवीटी पब्‍लिकली ओपेन होनी चाहिए। इसके लिए पासपोर्ट डीटेल देकर आप पोर्न भी डाउनलोड कर सकेंगे।

    विंडो का नया वर्जन मार्केट में आएगा जिसका नाम होगा विंडो मैंगो यानी विंडो आम आदमी

    एमएस पॉवर प्‍वाइंट का नाम एमएस वीक प्‍वाइंट हो जाएगा क्‍योंकि पॉवर यानी करपशन


    लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

    News and photo source- storypick.com

    Please Wait while comments are loading...
    Opinion Poll

    पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more