7 भारतीय जिन्‍होंने गूगल में किया अपना जलवा कायम

Posted By:

गूगल ने हाल ही में सुंदर पिच्‍चई को एंड्रायड डिविजन का हेड बनाया है इससे पहले पिच्‍चई क्रोम और एप्‍प डिवीजन के हेड थे। गूगल में इस ऊंचे आहदें पर काम करने वाले केवल सुंदर पिच्‍चई नहीं है बल्‍कि कई भारतीय दिग्‍गज गूगल में अपने कदम जमा चुके हैं। इनमें से निकेशन अरोरा जो की सी‍नीयर वाइस प्रेसिडेंट और चीफ बिजनेस ऑफिसर है, अमित सिंगल जो गूगल फेलो के वायस प्रेसिडेंट हैं।

ये सभी ऐसे लोग हैं जिनपर गूगल को काफी भरोसा हैं आईए नजर डालते हैं गूगल में काम करने वाले कुछ और भारतीय लोगों पर जो गूगल में बड़े ओंहदों पर काम कर रहे हैं।

लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

Nikesh Arora, senior vice president and chief business officer

गूगल वेबसाइट के अनुसार निकेश रेवन्‍यू और कस्‍टमर ऑपरेशन का काम संभालते हैं इसके अलावा वे मार्केटिंग और पार्टनरशिप डिपार्टमेंट भी देखते हैं।

Sundar Pichai, Google Android chief

पिच्‍चई ने आईआईटी खरगपुर से बीटेक करने के बाद 2004 में गूगल ज्‍वाइन किया था इस समय पिच्‍चई गूगल एंड्रायड के हेड हैं।

Amit Singhal, senior vice president and Google Fellow

अमित सिंघल की वेबसाइट के अनुसार उन्‍होंने गूगल सन 2000 में ज्‍वाइन किया था, आईआईटी रुरकी से कंप्‍यूटर साइंस में बीई करने के बाद इस समय वे गूगल फेलो के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट हैं।

Vic Gundotra, chief of Google+

विक गंनडोतरा ने 11 साल की उम्र में ही कोडिंग करने का हुनर सीख लिया था। इस समय विक गूगल प्‍लस के चीफ है।

Krishna Bharat, principal scientist

कृष्णा भारत गूगल इंक में प्रिसिपल साइंटिस्‍ट के पद पर कार्यरत है। वे यूजर इंटरफेस और वेब सर्च के साथ कंटेंट एनेलिसेस पर ध्‍यान देते हैं।

Lalitesh Katragadda, Head of Google's research for emerging markets

ललितेश गूगल में काम करने वाले वो भारतीय श्‍ख्‍स है जिन्‍होंने गूगल मैप बनाया है। इस समय ललितेश गूगल रिसर्च हेड पर कार्यरत हैं।

Manik Gupta, senior product manager, Google Maps

मनिक गूगल ऑफिस में सीनियर प्रोडेक्‍ट मैनेजर के पद पर काम करते हैं। मनिक ने हैदराबाद से इंडियन स्‍कूल ऑफ बिजनेस से एमबीए किया था।


लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

Please Wait while comments are loading...
भाजपा से हाथ मिलाने के बाद नीतीश को सताने लगा यह डर
भाजपा से हाथ मिलाने के बाद नीतीश को सताने लगा यह डर
अगर की ये गलती, तो jio phone के सिक्योरिटी वाले 1500 रुपए 3 साल बाद भी नहीं मिलेंगे वापस
अगर की ये गलती, तो jio phone के सिक्योरिटी वाले 1500 रुपए 3 साल बाद भी नहीं मिलेंगे वापस
Opinion Poll

Social Counting