क्या आपके स्मार्टफोन में मौजूद एंटीवायरस कर रहा है आपके स्मार्टफोन की सुरक्षा...?

    |

    हमारे लिए हमारे स्मार्टफोन सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण चीजं है। जिसके बिना हम अपने एक भी दिन की कल्पना नहीं कर सकते हैं। हम अपने मोबाइल फोन को वायरस से बचाने के लिए लैपटॉप की तरह उसमें एंटीवायरस का इस्तेमाल करते हैं, ताकि हमारा स्मार्टफोन या लैपटॉप अच्छी तरह से काम कर सकें। ऐसे में हमारे प्ले स्टोर में भी काफी सारे एंटीवायरस मौजूद हैं। जो हमारे स्मार्टफोन को सिक्योर बनाते हैं। हालांकि अब एक रिपोर्ट में सामने आया है कि प्लेस्टोर पर मौजूद ज्यादातर एंटीवायरस ऐप्स किसी काम के नहीं हैं।

    क्या आपके स्मार्टफोन में मौजूद एंटीवायरस कर रहा है आपके स्मार्टफोन की सुरक्षा...?

     

    यह ऐप्स सर्वे में शामिल

    ऑस्ट्रिया की एंटीवायरस टेस्टिंग कंपनी AV-Comparatives ने इसी मामले को लेकर अपनी एक रिपोर्ट पेश की है। कंपनी ने अपनी यह रिपोर्ट 250 एंटीवायरस ऐप पर सर्वे करके तैयार की है। सर्वे में शामिल 80 ऐप्स ही 2000 malicious apps में से 30% से ज्यादा को डिटेक्ट कर सकी। हालांकि इनमें से ज्यादातर का फाल्स अलार्म रेट भी हाई देखने को मिला। जो काफी चौंकाने वाला आंकड़ा था, क्योंकि यह सभी ऐप्स आपके मोबाइल फोन को सिक्योर बनाने का दावा करते हैं।

    यह भी पढ़ें:- कंप्यूटर में वायरस से हैं परेशान, यहां मिलेगा आपकी प्रॉब्लम का सॉल्यूशन

    इसी के साथ AV-Comparatives ने अपने सर्वे में 138 से अधिक वेंडर्स की पॉप्युलर एंटीवायरस ऐप को शामिल किया था। AV-Comparatives द्वारा चुने गए सभी ऐप्स को आसानी से गूगल प्ले स्टोर पर डाउनलोड किया जा सकता है। वेंडर्स की लिस्ट में कई पॉप्युलर नाम हैं जिनमें Avast, AVG, BitDefender, Cheetah Mobile, DU Master, ESET, Falcon Security Lab, F-Secure, Google Play Protect, MalwareBytes, McAfee, Symantec और VSAR के नाम शामिल हैं। हालांकि यह सभी ऐप्स डिवाइस को सुरक्षित करने में असफल रहें।

    यह भी पढ़ें:- फोन में वायरस अटैक का खतरा ? ऐसे करें पहचान

    किसी भी डिवाइस से वायरस से लड़ने और उसे खत्म करने के लिए एंटी वायरस की खोज और उसे विकसित किया गया था। डिजिटल लैंडस्केप का प्रसार मैलवेयर और स्पाइवेयर (जैसे कीलॉगर्स) के नए और बेहतर रूपों के साथ हुआ है। जिसकी वजह से एंटीवायरस की प्रोग्रामिंग में पॉवर आती है। इसके जरिए सुनिश्चित किया जाता है कि एंटीवायरस अपना काम ठीक से कर रहा है या नहीं। मैलवेयर में लगातार होने वाले विकास की वजह से एंटी वायरस प्रोग्राम ना सिर्फ ओप्रेटिंग सिस्टम को नुकसान वाले वायरस का पता लगाता है बल्कि यह भी पता लगाता है कि डिवाइस में ऐसे वायरस क्यों और कैसे आ रहे हैं।

     

    एंटीवायरस प्रोग्राम आपके पीसी को नुकसान से बचा सकते हैं और आपकी व्यक्तिगत जानकारी भी सुरक्षित रख सकते हैं। बहुत सारे एंटीवायरस प्रोग्राम में से कुछ मुख्य प्रोग्राम के बारे में हम आपको यहां बता रहे हैं।

    1) नॉर्टन एंटीवायरस

    2) मैकफ्री वायरस स्कैन प्लस

    3) ट्रेंड माइक्रो ("पीसी-सिलिन") इंटरनेट सुरक्षा

    4) बिट डिफेंडर

    5) एवीजी एंटीवायरस

    यह भी पढ़ें:- कंप्यूटर में वायरस से हैं परेशान, यहां मिलेगा आपकी प्रॉब्लम का सॉल्यूशन

    एंटीवायरस प्रोग्राम में एक डेटाबेस होता है जिसके अंदर कुछ सिग्नेचर की होते हैं जो पीसी के हानिकारक कंपोनेट्स का पता लगाकर उसे दिखाते हैं। नियमित रूप से अपने सिस्टम की जांच करना हानिकारक कारकों से खुद को बचाने का सबसे अच्छा तरीका है।

    इसके लिए तीन अलग-अलग प्रकार के स्कैन मौजूद हैं:-

    1) फुल स्कैन

    2) कस्टम स्कैन

    3) क्वीक स्कैन

    अगर आप जानने चाहते हैं कि इनमें से किस स्कैन का उपयोग कब और कैसे करना है तो ऊपर दिए गए इस लिंक को क्लिक करके विस्तार में पढ़ सकते हैं। इसके अलावा आप गैजेट्स वर्ल्ड की तमाम ख़बरों के बारे में जानने और अपडेट रहने के लिए गिज़बोट हिंदी से जुड़े रहिए। यहां पर आपको टेक्नोलॉजी की तमाम ताजा ख़बरों और कई तरीकों के टिप्स एंड ट्रिक्स को हिंदी में बताया जाता है। आप गिज़बोट हिंदी के फेसबुक पेज को भी लाइक करके सभी ख़बरों से अपडेट रह सकते हैं।

    English summary
    There are also plenty of antivirus in our Play Store. Which make our smartphones secure. However, now a report has found that most antivirus applications on Playstore are not of any use. Let's tell you which antivirus are right for your phone and who does not.

    पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more