Jio ने मुद्रीकरण का सामना करने के लिए बनाई नई रणनीति

    रिलायंस जियो, जिसने टेलिकॉम इंडस्ट्री में तहलका मचा दिया था, जिसके आते ही आसमान छू रहें डेटा चार्जेस झट से कम हो गए हैं। जिसने टीवी, गाने, मूवी, सिनेमा सब फ्री में मुहैया कराया, लेकिन अब क्या कंपनी मॉनेटाइजेशन यानी मुद्रीकरण करना का विचार कर रही है ? दरअसल मुकेश अंबानी के नेतृत्व वाली 4 जी दूरसंचार रिलायंस जियो को अपने मनोरंजन ऐप्लिकेशन के यूज़र्स को मुद्रीकृत करने के लिए चुनौती का सामना करना पड़ सकता है।

    Jio ने मुद्रीकरण का सामना करने के लिए बनाई नई रणनीति

     

    क्या मुद्रीकरण होगा...?

    रणनीति विश्लेषक की एक नई रिपोर्ट के मुताबिक, मुकेश अंबानी के नेतृत्व वाले 4 जी टेल्को को अपनी एंटरटेनमेंट ऐप्लिकेशन के यूज़र्स को मुद्रीकृत करने के लिए चुनौती का सामना करना पड़ेगा क्योंकि यह भविष्य में फ्री सब्सिडी वाली सामग्री से हटकर एक प्रीमियम मॉडल में माइग्रेट करेगा। टेल्को वर्तमान में प्रतिस्पर्धियों से अलग होने, वफादारी से ग्राहक बनाने और भविष्य के विकास के अवसर बनाने के लिए अपने फ्री मनोरंजन ऐप्स का यूज कर रहा है। जिसके चलते लोग इसका तेजी से यूज़ कर रहे है।

    यह भी पढ़ें:- Jio Phone 2 के 5 बेस्ट ऐप्स जो स्मार्टफोन को भी देंगे कड़ी चुनौती

    स्ट्रैटजी एनालिटिक्स ने कहा, "हालांकि, डिजिटल सामग्री के लिए भुगतान करने की इच्छा भारत में कम है," यह बताते हुए कि बिज़नेस मॉडल के साथ उस कंटेंट का पता लगाना पड़ेगा, जिसकी डिमांड यूज़र्स को है, ऐसा कंटेंट जिसके लिए यूज़र्स भुगतान कर सकें, जिसके लिए टारगेट यूज़र सेगमेंट पता लगाना जरूरी है। ये सभी प्वाइंट्स मोनीटाइजेशन के लिए जरुरी होंगे । ब्रिस लॉन्ग्नोस वायरलेस मीडिया ने कहा कि जियो मोबाइल यूजर्स के प्रस्ताव को अलग करने और प्रतिस्पर्धी ऑपरेटरों से ग्राहकों को प्राप्त करने और बनाए रखने के लिए सफलतापूर्वक सामग्री का इस्तेमाल कर रहा है।

    जियो की नई योजना

    जियो ने हाल ही में इरोज इंटरनेशनल के वीडियो प्लेटफॉर्म के साथ प्रतिस्पर्धी डिजिटल म्यूज़िक ऐप सावन के साथ अपनी म्यूज़िक सेवा, जिओ-म्यूजिक का विलय कर दिया है और जियो ने ब्रांडेड ऐप्स के लिए सामग्री विकसित करने के लिए रॉय कपूर फिल्म्स के साथ एक बहु-वर्षीय सौदे पर हस्ताक्षर किए हैं। 4 जी टेल्को अपनी मूल कंपनी रिलायंस के मीडिया कारोबार पर भी निर्भर है, जिसमें टीवी और फिल्म निर्माण हाउसेज़ के अलावा बिगफ्लिक्स नामक अपनी खुद की ओवर-द-टॉप (ओटीटी) वीडियो सेवा है और टीवी नेटवर्क में हिस्सेदारी है।

     

    नीतेश पटेल, निदेशक वायरलेस मीडिया ने कहा की "रिलायंस जियो सामग्री में निवेश कर रहा है और भविष्य में अपने मनोरंजन व्यवसायों के लिए रेवेन्यू प्रदान करने की उम्मीद करेगा। चाहे यह एक फ्रीमियम या विज्ञापन-समर्थित व्यावसायिक मॉडल हो, जियो समेत सफल सामग्री वितरकों को मुफ्त से फ्रीमियम व्यापार मॉडल में सफलतापूर्वक संक्रमण के लिए विभिन्न प्रकार की सामग्री के लिए मांग और इच्छा-भुगतान का आकलन करने की आवश्यकता है, "

    जियो का बड़ा प्रतिद्वंद्वी भारती एयरटेल बेहद प्रतिस्पर्धी दूरसंचार बाजार में 4 जी ग्राहकों के अपने हिस्से का विस्तार करने के लिए एयरटेल टीवी और उसके संगीत स्ट्रीमिंग ऐप के माध्यम से आक्रामक रूप से अपने कंटेंट को बढ़ा रहा है। एयरटेल पहले से ही अपने उच्च भुगतान मूल्यों के माध्यम से अपने पोस्टपेड ग्राहकों को अमेज़ॉन और नेटफ्लिक्स सदस्यता प्रदान करता है। एयरटेल की पहले से ही इरोज, सोनी एलआईवी, हुक, अॉल्ट बालाजी और कई अन्य लोगों के साथ साझेदारी की है, जो जियो की मुश्किलें बढ़ा सकती है।

    English summary
    Now is the Jio Company considering monetization? Indeed, Mukesh Ambani-led 4G telecom Reliance Jio may have to face the challenge to monetize its entertainment application users.
    Opinion Poll

    पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more