Jio को इस मामले में नुकसान होने की संभावना, पढ़िए पूरी रिपोर्ट

|

रिलायंस जियो ने बाजार में कदम रखते ही अपना पैर जमा लिया था। अब तो लोग आँख मूंदकर कंपनी की सर्विस पर भरोसा करते हैं। रिलायंस जियो ने यूजर्स को सबसे सस्ता इंटरनेट और प्लान पेश करके उनका दिल जीत लिया है। बाकी सभी कंपनियां जियो को टक्कर देने के लिए एक से बढ़कर एक प्रयास करती रहती हैं। हालांकि खबर आ रही है कि जियो कंपनी कुछ मुश्किल में पड़ती हुई दिखाई दे रही है।

Jio को इस मामले में नुकसान होने की संभावना, पढ़िए पूरी रिपोर्ट

 

बताया जा रहा है कि रिलायंस जियो को इस वित्त वर्ष में हैंडसेट पर दी गई सब्सिडी जैसे खर्च को जोड़कर देखा जाए तो 2.1 अरब डॉलर यानी 15 हजार करोड़ रुपये का नुकसान झेलना पड़ सकता है। बता दें, इस बात का खुलासा इन्वेस्टमेंट रिसर्च फर्म सेनफोर्ड सी. बर्नस्टेन के विश्‍लेषक क्रिस लेन और सैमुअल चेन के हवाले से ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट से हुआ है।

राजस्व में वृद्धि जरूरी

इतना ही नहीं, क्लाइंट्स को 26 फरवरी को लिखे गए नोट में विश्लेषकों ने बताया कि रिलायंस जियो के लिए यह घाटा उनके प्रतिद्वंद्वियों भारती एयरटेल, वोडाफोन आइडिया से भी काफी ज्यादा बड़ा होगा। वहीं, लेन और चेन से पता चलता है कि फोन सब्सिडी का वहन एक अलग यूनिट रिलायंस रिटेल लिमिटेड के द्वारा किया जाता है और इसलिए यह जियो के हिसाब-किताब में नहीं दिखता है। उन्होंने कहा कि जियो अपने अकाउंटिंग में 'गैर मानक' मूल्यह्रास मैट्रिक्स का इस्तेमाल करता है।

यह भी पढ़ें:- Jio इस मामले में एयरटेल को पीछे छोड़ सकती है

इस सबसे बावजूद कंपनी आने वाले अगले 12 महीनों में राजस्व और ग्राहकों की संख्या के मामले में बाकी कंपनियों को पीछे छोड़ देगी। वहीं, मुकेश अंबानी की वायरलेस फोन कंपनी लगातार हर तिमाही में अपने मुनाफे की घोषणा कर रही है। पेश की गई रिपोर्ट में कहा गया है कि कंपनी को निवेश पर सकारात्मक रिटर्न के लिए हैंडसेट की सब्सिडी में कमी करनी होगी। वहीं ग्राहकों से मिलने वाले राजस्व में बढोतरी करनी होगी।

Most Read Articles
 
Best Mobiles in India

English summary
Reliance Jio will be able to face a loss of 2.1 billion dollars or 15 thousand crore rupees, if this expenditure is added to the subsidy given on handsets in this financial year. Let us know, this is revealed by a report from Bloomberg, referencing the investment research firm Seanford C. Bernstein's analyst Chris Lane and Samuel Chen.

बेस्‍ट फोन

तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more