Jio और Samsung की नई साझेदारी, मिलकर करेंगे काम

    भारत में रिलायंस जियो ने फिर से अपने इनडोर नेटवर्क कवरेज को बढ़ावा देने के लिए उपकरण विक्रेता सैमसंग नेटवर्क के साथ साझेदारी कर ली है। देश में अपनी 4जी एलटीई कनेक्टिविटी को 75% से बढ़कर 99% तक बढ़ाने के लिए, रिलायंस जियो फिर से आवश्यक बुनियादी ढांचे और उपकरणों को तैनात करने के लिए सैमसंग के साथ साझेदारी कर रहा है। बता दें, दूरसंचार अपने मौजूदा 4 जी एलटीई उपकरण और बुनियादी ढांचे के साथ व्यापक इनडोर कोशिकाओं को तैनात करने के लिए सैमसंग की मदद लेगा।

    Jio और Samsung की नई साझेदारी, मिलकर करेंगे काम

     

    रिलायंस जियो करेगा 99% कवरेज

    सैमसंग इंडिया में सीनियर वाइस प्रेसिडेंट और नेटवर्क्स बिजनेस के हैड, श्रीनी सुंदरराजन ने ईटीटेलेकॉम को बताया कि हमने इनडोर स्मॉल सेल पर ड्राइव को देखा है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आउटडोर पर काम नहीं चल रहा है। साइट की उपलब्धता के आधार पर आउटडोर अच्छी गति से हो रहा है और होता रहेगा। उन्होंने आगे कहा, "हम नेटवर्क के इस टुकड़े [इनडोर] पर विस्तार करना जारी रखेंगे।

    यह भी पढ़ें:- DTH सेक्टर में भी एयरटेल से आगे रहेगा जियो

    रिलायंस जियो के साथ अपने संबंध में सुंदरराजन ने कहा कि जियो हमें बताता है कि उनकी नेटवर्क आवश्यकताएं क्या हैं, और हम इस बात का समर्थन करते हैं। इनडोर हमेशा अपना वॉल्यूम बड़ा दिखता है क्योंकि इसके डिवाइस छोटे होते हैं और तैनात करने में आसान होते हैं और यह सेल्फ कॉन्फ़िगर किए जाते हैं। यह पहली बार नहीं है कि सैमसंग नेटवर्क को रिलायंस जियो से उपकरण परिनियोजन के लिए अनुबंध मिला है।

    बता दें, कोरियाई जायंट सैमसंग शुरुआत के बाद से रिलायंस जियो के लिए एकमात्र उपकरण प्रदाता रहा है। साथ ही सैमसंग ने पैन इंडिया कवरेज के लिए 140,000 साइटों में उपकरणों को तैनात करने के लिए दूरसंचार के साथ भी काम किया है। हालांकि इस बार मामला थोड़ा अलग दिखाई दे रहा है, क्योंकि इस बार रिलायंस जियो कवरेज और क्षमता दोनों पर ध्यान केंद्रित कर रहा है। सैमसंग के प्रयासों का काफी हिस्सा कवरेज को समर्पित किया गया है।

     

    यह भी पढ़ें:- Reliance Jio का धमाकेदार प्लान, यूजर्स को मिलेगा 100% कैशबैक

    इसके अलावा, अपनी 4 जी परिनियोजन को सशक्त बनाने के लिए, रिलायंस जियो भी एमआईएमओ प्रौद्योगिकी की मदद ले रहा है। इतना ही नहीं,सैमसंग नेटवर्क रिलायंस जियो को वर्चुअलाइज्ड पैकेट कोर की नई तकनीक भी प्रदान कर रहा है। जो 5 जी नेटवर्क के लिए काफी जरुरी हिस्सा है।

    सैमसंग नेटवर्क और डीओटी

    सैमसंग नेटवर्क 2019 की आगामी तिमाही में नई दिल्ली में 5 जी फील्ड टेस्ट आयोजित करने के लिए दूरसंचार विभाग के साथ मिलकर काम कर रहा है। सुंदरराजन ने बताया कि सैमसंग नेटवर्क के पास 4 जी के मामले में ऐसा करने के लिए बहुत कुछ है। उन्होंने यह भी कहा कि कंपनी इस मामले में सरकार के साथ मिलकर काम करेगी ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि हम सरकार की जरुरतों को भी समझते हैं।

    कार्यकारी ने आगे कहा कि इस संबंध में केंद्र की भागीदारी महत्वपूर्ण है क्योंकि बहुत से 5 जी उपयोग मामलों में business value के साथ-साथ societal value भी काफी महत्वपूर्ण होता है। उन्होंने परियोजना में सरकार की भागीदारी को 5 जी के सफल वाणिज्यिक रोलआउट के लिए बहुत जरूरी माना है।

    यह भी पढ़ें:- 4G स्पीड में Jio सबसे आगे, Airtel, Voda समेत सभी को छोड़ा पीछे

    सुंदरराजन ने यह भी बताया कि सैमसंग इन 5 जी फील्ड टेस्ट के संचालन के लिए मिलीमीटर लहर (मिमी-लहर) स्पेक्ट्रम का सहारा लेगा। सुंदरराजन ने कहा, "सरकार के वास्तविक दृष्टिकोण को सक्षम करने के लिए हमें एमएमवेव में तकनीक की काफी जरुरत है। उम्मीद है कि सरकार इसमें हमारा पूरा साथ देगी।

    English summary
    In India, Reliance Jio has again collaborated with the equipment vendor Samsung Network to promote its indoor network coverage. To increase its 4G LTE connectivity from 75% to 99% in the country, Reliance Jio is again partnering with Samsung to deploy the necessary infrastructure and equipment.
    Opinion Poll

    पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more