ऑनलाइन मिलेंगे खादी के कपड़े

Written By:

    अब खादी के अच्‍छे दिन आने वाले हैं जल्दी ही खादी के उत्पाद ऑनलाइन खरीदे जा सकेंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रेडियो पर खादी पहनने की अपील के बाद लोगों का खादी की ओर रुझान बढ़ा है। यही वजह है कि दिल्ली के प्रगति मैदान में अंतरराष्ट्रीय भारतीय व्यापार मेले में इस बार खादी का पंडाल सभी का ध्यान खींच रहा है। पिछले कुछ सालों के दौरान न सिर्फ खादी की बिक्री में तेजी से गिरावट दर्ज की गई है बल्‍कि ये विलुप्‍त होने की कगार तक पहुंच गई है।

    प्रधानमंत्री ने अपने वाराणसी दौरे के समय कहा था कि देश में प्रचलित ई कॉमर्स का फायदा खादी के उत्पादकों को भी मिलना चाहिए और इसी बात को ध्यान में रखते हुए दिल्ली का खादी ग्रामोद्योग भवन खादी उत्पादों को ऑनलाइन लाने की लगभग सभी तैयारियां पूरी कर चुका है।

    ऑनलाइन मिलेंगे खादी के कपड़े

    रीगल बिल्डिंग स्थित खादी ग्रामोद्योग भवन के सहायक निदेशक डी. एस. भाटी ने बताया, ‘खादी ग्रामोद्योग आयोग ने ई-कॉमर्स क्षेत्र में जाने के लिए पहले से ही वेबसाइट बना ली है। बस कुछ सरकारी औपचारिकताओं को पूरा करने के बाद हम बहुत जल्दी ही इसे ई-कॉमर्स मार्केट में लांच करने वाले हैं।' उन्होंने बताया कि इस कार्य को लेकर सारी प्रारंभिक औपचारिकताएं पूरी हो चुकी हैं। मेले में आए कई ग्राहकों से जब खादी के ई-कॉमर्स मार्केट में आने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने इसे एक अच्छा कदम बताया और इसकी सराहना की।

    मेले में खरीददारी करने आईं दिल्ली विश्वविद्यालय की एक छात्रा शिल्पा जैन ने बताया, ‘अभी खादी के कुछ सौंदर्य प्रसाधन से जुड़े उत्पाद ही ऑनलाइन मार्केट में मिल पाते हैं और उनके असली खादी उत्पाद होने पर भी संदेह रहता है। ऐसे में यदि ‘खादी' अपने उत्पादों को ऑनलाइन लाएगा तो बहुत आसानी होगी और स्वयं खादी की वेबसाइट पर सामान मिलने से उसकी गुणवत्ता पर कोई संदेह भी नहीं रहेगा।'

    English summary
    Sale of khadi, a hand-woven cloth, registered a 6 per cent growth in 2013-14 across the country, while the gain in production during this period was by about 6.45 per cent.
    Opinion Poll

    पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more