पेटीएम लॉन्‍च करेगा स्पैम प्रूफ 'एसएमएस इनबॉक्स'

    डिजिटल भुगतान प्लेटफार्म पेटीएम ने स्पैम प्रूफ एसएमएस इनबॉक्स लॉन्‍च करने की घोषणा की है। यह पेटीएम इनबॉक्स की एक नई सुविधा है। स्पैम एसएमएस और इससे संबंधित नोटिफिकेशन को स्वत: फिल्टर करके अपने यूजर्स को बेहतर अनुभव प्रदान करने के उद्देश्य से कंपनी ने इसे लॉन्‍च करने का फैसला किया है।

    पेटीएम लॉन्‍च करेगा स्पैम प्रूफ 'एसएमएस इनबॉक्स'

    पेटीएम का स्पैम प्रूफ एसएमएस इनबॉक्स

    कंपनी के मुताबिक, यह इनबॉक्स व्यक्तिगत, लेन-देन और प्रमोशनल श्रेणियों में एसएमएस को वर्गीकृत करने के लिए ट्रेडमार्कयुक्त मशीन लर्निंग एल्गोरिदम का उपयोग करता है। एक बार सिस्टम एक्टिवेट हो जाने के बाद उपयोगकर्ता को विभिन्न श्रेणियों के बारे में जानकारी मिल जाएगी, जो कि SMS श्रेणियों में और हर श्रेणी के उपयोग में किए जाएंगे। बाकी एप्लिकेशन की तरह, यूजर्स मैसेज या किसी भी थ्रेड को हटा सकते हैं। इसमें मैसेज को फिर से वर्गीकृत करने और उन्हें पढ़ने या ना पढ़ने यानि अन‍रीड करने का विकल्प भी होगा।

    यह भी पढ़ें:- Paytm करते हैं इस्तेमाल, तो इन बातों को न करें अनदेखा

    मशीन लर्निंग मैसेजिंग ऐप को उपयोगकर्ता के इनपुट, कस्टमाइज़ को पढ़ने और एसएमएस संदेश इनबॉक्स को अपडेट करने में सक्षम करेगी। यह Truecaller या Messenger के समान ही है जहां ऐप्स से आप मैसेज कर सकते हैं। हालांकि, हम स्वतंत्र रूप से नई सुविधा का परीक्षण करने में सक्षम नहीं थे, क्योंकि यह कई चरणों में आगे बढ़ सकता है।

    क्या होगा फायदा

    मई में पेटीएम पर कथित रूप से इंटरनेट पर वायरल किए गए एक वीडियो के अनुसार, अपने 300 मिलियन उपयोगकर्ताओं के व्यक्तिगत डेटा को तीसरे पक्ष के ऐप्स में लीक करने का आरोप लगा था। यूपीआई-आधारित ऐप ने किए गए सभी दावों को खारिज कर दिया था।

    पेटीएम के वरिष्ठ उपाध्यक्ष दीपक एबट ने बताया कि एसएमएस को लेकर मोबाइल फोन यूजर्स को हो रही दिक्‍कतों को ध्‍यान में रखते हुए स्पैम प्रूफ एसएमएस इनबॉक्स लांच किया गया है। क्योंकि अभी ज्यादातर एसएमएस स्पैम होते हैं। एक टेक्नोलॉजी कंपनी होने के नाते पेटीएम ने इस समस्या का सुविधाजनक समाधान प्रदान करने का निर्णय लिया है।

    English summary
    Digital Payment Platform PatyM announced to launch spam-proof SMS Inbox. This is a new feature of the Petty M Inbox. The company has decided to launch it for the purpose of automatic filtering of spam messages and related information to its users.
    भारत का अब तक का सबसे बड़ा राजनीतिक पोल. क्या आपने भाग लिया?
    Opinion Poll

    पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more