घर में ही कीजिए फ्री ब्‍लड टेस्‍ट

Posted By:

हम में से कई लोग ब्‍लड टेस्‍ट कराने से काफी कतराते हैं, कुछ लोग तो सुई के नाम से इतना डर जाते हैं कि ब्‍लड टेस्‍ट तो दूर की बात है। लेकिन अब आपको ब्‍लड टेस्‍ट से डरने की कोई बात नहीं क्‍योंकि टचबी की मदद से आप बिना किसी दर्द और सुई के घर में ही अपना टेस्‍ट कर सकते हैं। इस डिवाइस को बनाने का श्रेय मायॅश्‍किन इंगावले, डॉ. अभिषेक सेन और योगेश पाटिल को जाता है।

टचबी को बनाने का आईडिया मॉयश्‍किन को एक घटना के बाद आया, 2009 में वे अपने दोस्‍त अभिषेक से मिलने मुंम्‍बई के पैरोल में गए जहां पर डा.अभिषेक एक गर्भवती महिला का ऑपरेशन कर रहे थे लेकिन बाद में पता चला महिला के साथ उसका बच्‍चा भी मर चुका है। मॉयश्‍किन को जब पता चला उनकी मौत अनीमिया के कारण हुई है जिसके बारे में पहले पता नहीं चल पाया तो वे दंग रह गए क्‍योंकि एन‍ीमिया का इलाज संभव है। उसी समय उनके दिमाग में एक ऐसी डिवाइस बनाने का ख्‍यान आया जिससे आसानी से ब्‍लड टेस्‍ट किया जा सके।

घर में ही कीजिए फ्री ब्‍लड टेस्‍ट

इसके बाद मॉयश्‍किन ने दो ऐसे लोगों को खोजना शुरु किया जो इस डिवाइस की डिजाइन तैयार कर सकें। तब उन्‍हें डॉ सेन मिले तो आशा कार्यकत्रियों के साथ एक पब्‍लिक हेल्‍थकेयर चलाते हैं। उन्‍होंने ऐसा डिजाइन तैयार किया जिसे कैरी करने में भी आसानी हो और साथ में इसे आसानी से प्रयोग किया जा सके।

टचहब में दिए गए फीचर

  • टचहब में बैटरी इनबिल्‍ड है जिससे इसे कहीं भी आसानी से प्रयोग किया जा सकता है। 
  • एनीमियां जैसी बीमारी से बचने के लिए टचहब से ब्‍लड में ह्यूमोग्‍लोबिन की मात्रा पता लगाई जा सकती है। 
  • टच हब रेडिऐशन लाइट पर काम करता है तो हमारी हाथ की उंगलियों की अलग अलग वेवलेंथ पर काम करता है।

Please Wait while comments are loading...
बाहुबली और श्रीदेवी समेत 24 दुर्लभ मूर्तियों को विदेशों से वापस ला चुकी है मोदी सरकार
बाहुबली और श्रीदेवी समेत 24 दुर्लभ मूर्तियों को विदेशों से वापस ला चुकी है मोदी सरकार
SOLAR ECLIPSE 2017: साल का दूसरा सबसे बड़ा ग्रहण हुआ खत्म
SOLAR ECLIPSE 2017: साल का दूसरा सबसे बड़ा ग्रहण हुआ खत्म
Opinion Poll

Social Counting