लाखों फोन जानबूझकर धीमा करने के लिए Apple, SAMSUNG पर लगा जुर्माना

|

एपल और सैमसंग की भले ही आपस में न बनती हो और दोनों एक दूसरे पर केस ठोकते रहते हों लेकिन इस बार का मामला थोला अलग है। इटली की भरोसा रोधी प्राधिकरण ने प्रौद्योगिकी दिग्गज एप्पल और सैमसंग पर जानबूझकर अपने ग्राहकों के फोन को धीमा और बेकार बनाने के लिए भारी जुर्माना लगाया है और कहा है कि दोनों कंपनियां बेईमान वाणिज्यिक प्रथाओं में संलिप्त हैं।

लाखों फोन जानबूझकर धीमा करने के लिए Apple, SAMSUNG पर लगा जुर्माना

 

समाचार एजेंसी एफे के अनुसार, इटली के प्रतिस्पर्धा आयोग (एजीसीएम) ने एप्पल और सैमसंग पर क्रमश: एक करोड़ और आधा करोड़ यूरो (1.14 करोड़ और 57 लाख डॉलर) का जुर्माना लगाया है और कहा है कि दोनों कंपनियों ने सॉफ्टवेयर अपडेट के बहाने जानबूझ कर ग्राहकों के फोन को धीमा कर दिया और उसकी कार्यप्रणाली को बिगाड़ दिया, ताकि वही ग्राहक फिर से नया फोन खरीदें।

Nokia 8110 4G की सभी फीचर्स और कीमत

रपट में कहा गया है कि साल 2016 के सितंबर से एप्पल अपने आईफोन 6 के ग्राहकों को बार-बार अपना सॉफ्टवेयर अपडेट का नोटिफिकेशन भेज रहा है, जिसे अगली पीढ़ी के मॉडल आईफोन 7 को ध्यान में रखकर बनाया गया है। साथ ही कंपनी ने यूजर्स को यह नहीं बताया कि इस अपडेट को करने से उनका फोन स्लो हो जाएगा तथा उसकी कार्यप्रणाली भी बिगड़ जाएगी।

वहीं, दूसरी तरफ सैमसंग ने गैलेक्सी नोट फोन रखनेवालों को गूगल के एंड्रायड ऑपरेटिंग सिस्टम का नया वर्शन इंस्टाल करने को कहा, जिसे हाल के गैलेक्सी नोट 7 को ध्यान में रखकर बनाया गया था। इस अपडेट को करने से गैलेक्सी नोट के पुराने फोन धीमे चलने लगे।

Most Read Articles
 
Best Mobiles in India

English summary
Apple has won a copyright infringement case against Samsung, where Samsung has to pay Apple a whopping amount of fine ($539 million). The case was filed by Apple in 2011 and the Jury members have asked Samsung to pay the fine.

बेस्‍ट फोन

तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more