"सुप्रीम" फैसले से एयरटेल-वोडा को मिली राहत, जियो को लगा झटका

    जियो ने भारत में अपनी धमाकेदार शुरुआत करके बाकी कंपनियों को तो पानी पिला ही दिया है। इसके साथ-साथ जियो अपनी प्रतिस्पर्दी कंपनियों के खिलाफ शिकायत भी दर्ज करवा चुकी है। जियो की इस शिकायत याजिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज करते हुए भारती एयरटेल, वोडाफोन और आइडिया को काफी बड़ी राहत दी है।

     

    सुप्रीम कोर्ट से एयरटेल-वोडा को मिली राहत

    दरअसल, जियो ने अपनी कंप्टीटर कंपनियों की शिकायत करते हुए आरोप लगाया था कि सभी विरोधी कंपनियां आपस में गुटबंदी कर रही हैं। जियो ने आरोप लगाया कि पुरानी टेलिकॉम कंपनियां उसे इंटरकनेक्शन पॉइंट्स नहीं दे रही हैं, जो प्रतिस्पर्धा से जुड़े नियमों का उल्लंघन है। इस आरोप के साथ मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस जियो ने इसकी जांच की मांग की थी।

    यह भी पढ़ें:- JioSaavn की सर्विस हुई शुरू, जानिए जियो यूजर्स के फायदे

    जियो ने लगाया था आरोप

    सीसीआई ने बॉम्बे हाईकोर्ट में इस याचिका को एक आदेश के खिलाफ दायर किया था, लेकिन बॉम्बे हाई कोर्ट ने इस याचिका को खारिज करते हुए कहा कि टेलिकॉम सेक्टर में पहले से ही एक सुनिश्चित व्यवस्था रेग्युलेटर- टेलिकॉम रेग्युलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया (ट्राई) मौजूद है। लिहाजा सीसीआई यह जांच नहीं कर सकता है।

    हाई कोर्ट ने याचिका खारिज की

    आपको बता दें कि पिछले साल जियो के आरोप लगाने के बाद सीसीआई ने पुरानी कंपनियों के खिलाफ जांच शुरू कर दी थी। इस जांच पर बाद में बॉम्बे हाई कोर्ट ने याचिका खारिज करते हुए रोक लगा दी थी। जिसके बाद इस साल जनवरी में सीसीआई और रिलायंस जियो ने बॉम्बे हाई कोर्ट के इस फैसले को सुप्रीम में चुनौती दी। इस केस की सुनवाई जस्टिस ए के सीकरी की अध्यक्षता वाली बेंच कर रही थी।

    यह भी पढ़ें:- Jio के मालिक मुकेश अंबानी को किसने कहा, "सर जियो नहीं चल रहा"

    सुप्रीम कोर्ट ने सुनाया फैसला

    बीते बुधवार को बेंच ने कहा कि, 'हम बॉम्बे हाई कोर्ट के आदेश को बरकरार रखते हैं। यह मामला सीसीआई के अधिकार क्षेत्र में तभी आ सकता है, जब ट्राई एक्ट के तहत इस मामले की जांच पूरी हो गई है।' ईटी ने आदेश की कॉपी देखी है." इसके आगे बेंच ने यह भी कहा कि सीसीआई को जांच बंद करने के बॉम्बे हाईकोर्ट के अंतिम निर्देश को दखलंदाजी नहीं माना जा सकता क्योंकि यह सीसीआई द्वारा 'बिना सोचे समझे 'की गई कार्रवाई थी।'

     

    यह भी पढ़ें:- Jio vs Airtel vs Vodafone: रोजाना 2GB इंटरनेट डेटा देने में सबसे आगे कौन...?

    लिहाजा सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले से एयरटेल समेत वोडाफोन-आइडिया कंपनी को भी बड़ी राहत मिली है। वहीं दूसरी तरफ जियो कंपनी के लिए इस फैसले को एक बड़े झटके के रूप में देखा जा सकता है।

    English summary
    Jio complained to his comptuter companies alleging that all the opposition companies are closing together. Jio had sought the CCI to investigate the allegation. This demand was first dismissed by the Bombay High Court and on Wednesday the Supreme Court also rejected it.
    Opinion Poll

    पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more