Subscribe to Gizbot

सोशल मीडिया का धड़ल्ले से इस्तेमाल कर रहे आतंकी

Posted By:

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के अहम शहर मेरठ में आईएसआई एजेंट आसिफ अली की गिरफ्तारी के बाद एसटीएफ के शिकंजे में आए भारतीय सेना के जवान सुनीत कुमार ने जो खुलासे किए हैं, उससे साफ जाहिर है कि आतंकी खुलकर सोशल मीडिया का प्रयोग कर रहे हैं। लड़कियों के नाम से 'फेक प्रोफाइल' तैयार कर यूजर्स को फंसाया जाता है। सुनीत के मामले में सामने आए ऐसे तथ्यों ने फिर अलर्ट किया है। खासकर पाकिस्तानी लड़कियों के नाम से बने फेसबुक आईडी से सावधान रहने की हिदायत दी गई है।

पढ़ें: सड़कों पर बनाए पहाड़ और झरने, जिसमें रोज डूब रहे हैं लोग

दरअसल पश्चिमी उप्र में पाकिस्तान के लिए जासूसी करने और आंतकी गतिविधियों के मामले लगातार सामने आए हैं। करीब 14 वर्ष पहले जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख मौलाना मसूद अजहर को छुड़ाने के लिए पश्चिमी उप्र के ही सहारनपुर में पांच विदेशी नागरिकों को बंधक बनाने की घटना सामने आयी थी। इसके अलावा पाकिस्तान के लिए जासूसी के आरोप में शाहिद इकबाल भट्टी उर्फ देवराज सहगल भी सहारनपुर से पकड़ा गया था।

5 चीजें जो आपको फेसबुक में नहीं पोस्‍ट करनी चाहिए

लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

कभी भी फेसबुक में अपनी लोकेशन न शेयर करें अक्‍सर लोग एयरपोर्ट या फिर किसी होटल में होते हें तो वे तुरंत अपनी लोकेशन फेसबुक में शेयर कर देते हैं हां इसके बदल अपने जानने वालों को फोन पर अपनी लोकेशन बता दें, पूरी दुनियां को बताने क्‍या जरूरत है।

अगर आपने कोई नया गैजेट खरीदा है तो जाहिर सी बात है उसकी खुशी आपको होगी लेकिन उसे फेसबुक में शेयर करने की क्‍या जरूरत है इस बात पर जरा गौर करिएगा। मान लीजिए आपने 30 हजार का कोई नया फोन खरीदा और तुरंत उसे फेसबुक में अपडेट कर दिया तो जरा सोंचिए कई लोगों के मन में आपके लिए ईष्‍या आ सकती है।

काफी लोगों को ये बात परेशान करती है कि आखिरी दोस्‍तों को सजेस्‍ट करना कहां की अकलमंदी हैं दोस्‍त अगर सजेशन से बनाए जाएं जो दोस्‍त कैसे। इसलिए कभी भी किसी दोस्‍त को किसी दूसरे दोस्‍त के लिए फेसबुक में सजस्‍ट न करें।

माना फेसबुक में कई एप्‍लीकेशन दी गईं हैं लेकिन जबरजस्‍ती किसी ऐसे व्‍यक्ति को वो एप्‍लीकेशन इंस्‍टॉल करने की सलाह आपके लिए परेशानी का सबब बन सकती है। मै ये इसलिए कह रहा हूं क्‍योंकि मेरे फेसबुक पर्सनल प्रोफाइल में रोज ढेरों एप्‍लीकेशनों की रिक्‍वेस्‍ट आती रहती है जिसकी वजह से अब रिक्‍वेस्‍ट ऑप्‍शन मुझे ब्‍लॉक करना पड़ा है। ऐसा दूसरों के साथ न हो इसलिए किसी भी एप्‍लीकेशन को फेसबुक में सजेस्‍ट न करें।

कुछ लोगों को हर पेज और पोस्‍ट लाइक करने की आदत होती है, आप कोई भी वेबसाइट ओपेन करें उसमें फेसबुक लाइक और दूसरी सोशल नेटवर्क साइटों के ऑप्‍शन हमेशा सामने ही रहते हैं लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि झट से आप बिना सोंचे समझे उसे लाइक मार दें। केवल उसी पोस्‍ट और साइट को लाइक करें जिसे आप पसंद करें न कि हर चीज लाइक मारे।


लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

English summary
The study revealed that terror groups use social media platforms like Twitter, Facebook, YouTube and internet forums to spread their messages and recruitment.
Please Wait while comments are loading...
Opinion Poll

Social Counting

पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more