ट्राई का आदेश कॉल ड्रॉप पर मुआवजा देना शुरू करे दूरसंचार कंपनियां..!

Written By:

    एक बार फिर कॉल ड्रॉप का मुद्दा चर्चा में है। भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) ने सभी टेलिकॉम कंपनियों को कॉल ड्रॉप पर मुआवजा देने को कहा है। इसके चलते ट्राई ने सभी दूरसंचार कंपनियों को पात्र भी भेजा है। हालांकि कंपनियों का कहना है कि वह तभी मुआवजा देंगी जब कोर्ट का आदेश होगा।

    कार्बन ने लॉन्च किए दो बजट स्मार्टफोन..!

    ट्राई का आदेश कॉल ड्रॉप पर मुआवजा देना शुरू करे दूरसंचार कंपनियां..!

    ट्राई ने 16 अक्तूबर, 2015 को दूरसंचार उपभोक्ता सुरक्षा नियमन के संबंध में संशोधन जारी किया है जिसमें उसने एक नियम जोड़ा है कि दूरसंचार कंपनियां अपने नटवर्क में किसी कमी के कारण फोन कॉल खुद कट जाने यानी कॉल ड्राप के लिए उपभोक्ताओं की हर्जाना देंगे।

    विदेश यात्रा के दौरान ऐसे रहे अपने लोगों से कनेक्टेड..!

    ट्राई का आदेश कॉल ड्रॉप पर मुआवजा देना शुरू करे दूरसंचार कंपनियां..!

    इस नियम के अंतर्गत दूरसंचार कंपनियां हर कॉल ड्राप के लिए उपभोक्ताओं को एक रुपये का मुआवजा देंगी और भुगतान की सीमा तीन रुपये प्रतिदिन होगी। दूरसंचार कंपनियों ने इस नियम के संबंध में दिल्ली उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है। एसोसिएशन ऑफ यूनिफाइड टेलीकॉम सर्विस प्रोवाइडर्स आफ इंडिया के महासचिव अशोक सूद ने कहा कि यह मामला अभी न्यायालय में है और हम उपभोक्ताओं को भुगतान तभी करेंगे जबकि अदालत हमें ऐसा करने के लिए कहता है।

    इससे अच्‍छे सेल्‍फी फोन नहीं मिलेंगे, ये हैं 10 बेस्‍ट सेल्‍फी स्‍मार्टफोन

    ट्राई ने अदालत से कहा है कि वह छह जनवरी को सुनवाई होने तक कॉल ड्रॉप के मुआवजे के मानदंड का अनुपालन न करने पर कोई दंडात्मक कार्रवाई नहीं करे।

    क्‍यों खरीदें माइक्रोमैक्‍स का नया यू यूटोपिया स्‍मार्टफोन, देखिए इस हिन्‍दी वीडियो में,

    English summary
    TRAI has told telecom operators to start paying for call drop. But the companies are saying they will do this only if court will ask them to do so.
    Opinion Poll

    पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more