रिलायंस लाएगी बाजार में 4जी उपकरण

Posted By:

मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज ने अपनी रिटेल इकाई को 4जी डाटा कॉम सेवा के लिए उपकरणों के बाजार का विकास करने और उसका विस्तार करने की जिम्मेदारी दी है। रिलायंस इंडस्ट्रीज जियो ब्रांड के साथ जल्द ही देश भर में 4जी डाटा कम्युनिकेशन सेवा शुरू करने जा रही है।

अंबानी ने रिलायंस रिटेल के संबंधित अधिकारियों को भेजे गए अपने पत्र में 4जी प्रौद्योगिक के विशिष्ट शब्दों का उल्लेख करते हुए लिखा, "ब्रॉडबैंड को जन-जन तक पहुंचाने के लिए उपकरण महत्वपूर्ण है। देश में इन उपकरणों के लिए लांग-टर्म इवोल्यूशन (एलटीई) शुरुआती स्‍टेज में है।

पढ़ें: 15 जनवरी को ब्‍लैकबेरी भारत में उतारेगा क्‍लासिक स्‍मार्टफोन

रिलायंस इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष अंबानी ने पत्र में लिखा है, "रिलायंस रिटेल इस एलटीई उपकरण परितंत्र को राह दिखाएगी, बिक्री और वितरण चैनलों का निर्माण करेगी, जिसमें रिटेल स्टोर भी शामिल होंगे।" उन्होंने यह भी कहा कि इस कार्य का नेतृत्व कंपनी के वरिष्ठ अधिकारी संदीप दास करेंगे। उन्होंने लिखा, "संदीप दास रिलायंस जियो के प्रबंध निदेशक की भूमिका को छोड़कर रिलायंस रिटेल के बोर्ड में शामिल होंगे और उसके जियो खंड का दिशा निर्देशन करेंगे।

रिलायंस लाएगी बाजार में 4जी उपकरण

दास ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि इस भूमिका के लिए उन्होंने खुद ही अनुरोध किया था। वह पहले देश-विदेश की कई दूरसंचार कंपनियों से जुड़े रहे हैं। उन्होंने कहा, "रिलायंस रिटेल इलेक्ट्रॉनिक उत्पादों के सेल्स स्टोर और चैनलों का निर्माण करेगी और इसमें दिशानिर्देशन करना एक शानदार चुनौती होगी।

पढ़ें: सैमसंग ने लांच किए दो नए मेटल स्‍मार्टफोन

उल्लेखनीय है कि अमेरिका और चीन का बाजार संतृप्त हो जाने के बाद भारत को दूरसंचार के अगले बड़े बाजार के रूप में देखा जा रहा है। उद्योग के एक जानकार के मुताबिक देश में 4जी उपकरणों का बाजार अभी मामूली है, लेकिन 2015-16 तक यह 50 लाख से एक करोड़ हैंडसेट का हो जाएगा।

Please Wait while comments are loading...
आधार धारकों को मोदी सरकार देगी एक लाख कैश, जानें वायरल मैसेज की सच्चाई
आधार धारकों को मोदी सरकार देगी एक लाख कैश, जानें वायरल मैसेज की सच्चाई
मुजफ्फरनगर रेल हादसा: 10 के मारे जाने की खबर, नोट करें हेल्‍पलाइन नंबर
मुजफ्फरनगर रेल हादसा: 10 के मारे जाने की खबर, नोट करें हेल्‍पलाइन नंबर
Opinion Poll

Social Counting