तेजी से बढ़ रही है वेबसाइटों की संख्‍या, जानिए धरती पर कितने डोमेन हो गए है

By Deepa

    डोमेन नेम खरीदा और बना दी वेबसाइट, आज के टाइम में वेबसाइट खोलना इतना आसान हो गया कि स्‍कूल के बच्‍चे भी अपने नाम की वेबसाइटें खोलने लगे हैं। डोमेन नाम और इंटरनेट सुरक्षा के क्षेत्र की जानी-मानी कंपनी 'वेरीसाइन' ने जानकारी दी है साल 2017 की चौथी तिमाही में लगभग 17 लाख डोमेन पंजीकरण हुए हैं। इसके साथ ही सभी शीर्ष स्तरीय डोमेन (टीएलडीज) में डोमेन पंजीकरणों की कुल संख्या 33.24 लाख हो गई है। कंपनी ने एक बयान में कहा कि साल 2017 में 'डॉट कॉम' और 'डॉट नेट' डोमेन के कुल 90 लाख पंजीकरण हुए, जबकि 2016 में 88 लाख हुए थे।

    किसी भी एंड्राइड एप में ऐसे करें गूगल ट्रांसलेट का इस्तेमाल

    साल 2017 की चौथी तिमाही के अंत तक डोमेन नाम आधार पर 'डॉट कॉम' और 'डॉट नेट' टीएलडीज के संयुक्त डोमेन पंजीकरण लगभग 14.64 करोड़ हो गए हैं। हालांकि इतने डोमेन कंफिगर नहीं हुए हैं। कंपनी ने कहा कि 31 दिसंबर, 2017 को 'डॉट कॉम' डोमेन नाम आधार के डोमेन पंजीकरणों की कुल संख्या 13.19 लाख थी, जबकि 'डॉट नेट' डोमेन नाम आधार की कुल संख्या 1.45 करोड़ थी।

    तेजी से बढ़ रही है वेबसाइटों की संख्‍या, जानिए धरती पर कितने डोमेन हो गए है

    क्‍या होता है डोमेन नेम
    डोमेन नेम एक तरह का नाम होता है जो आइपी एड्रेस को होस्‍ट में और होस्‍ट को आइपी एड्रेस में बदलने का काम करता है। इसे शार्ट में हम DNS भी कहते हैं। जब भी आप किसी वेबसाइट का नाम वेब ब्राउजर में टाइप करते हैं तो पीसी उसके आईपी एड्रेस को प‍हचान करे उसे ओपेन कर देता है।

    Recover deleted notification on android (HINDI)

    कंप्‍यूटर को नाम की बजाए आइपी एड्रेस को समझने में आसानी होती है। लेकिन साधारण रूप में हमें नाम पढने में आसानी होती है। अगर डोमेन नेम न हो तो जरा सोचिए हर साइट का अलग आइपी एड्रेस आपको याद रखना पड़ेगा जो थोड़ा मुश्‍किल पड़ेगा।

    English summary
    A global leader in domain names and Internet security VeriSign on Wednesday announced that the fourth quarter of 2017 saw approximately 1.7 million domain name registrations.
    Opinion Poll

    पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more