क्या है मोबाइल वॉलेट ? जानिए इसके फीचर

Written By: Staff

यदि आपका पर्स चोरी हो जाए, खो जाए या जेब काट जाए तो आपका स्मार्टफोन वॉलेट है न। यह न तो चोरी होना संभव है और न ही खोना। इससे भुगतान में आपको खुले पैसों की परेशानी भी नहीं उठानी पड़ती। पर इसका लाभ आप तभी उठा सकते हैं जबकि आप टेक्नोफ्रेंडली हो। आपके स्मार्टफोन में 3जी इंटरनेट हो। साथ ही दुकानदार व व्यापारी भी सर्विस प्रोवाइडर से जुड़े हो। आपको यह जानकारी भी दे दें कि मोबाइल वॉलेट से रोजमर्रा के हिसाब से रुपए जमा करने और भुगतान करने की भी सीमा होती है।

पढ़ें: 81 हजार महिलाओं के किसी और से भी हैं रिश्‍ते

डिजिटल इंडिया के दौर में तकनीक के फास्ट होने के साथ-साथ मोबाइल वॉलेट का प्रचलन भी बहुत तीव्र गति से आगे बढ़ रहा है। गांव हो या शहर सभी लोग इसको जानते ही नहीं बल्कि इसका उपयोग भी ऑनलाइन खरीददारी, बिल पेमेंट आदि में कर रहे हैं पर अभी भी कुछ लोग ऐसे हैं जिन्हें इसके बारे में जानकारी नहीं है। बिना जानकारी के वे इसका उपयोग भी नहीं कर पा रहे हैं। चलिए हम आज आपको मोबाईल वॉलेट तथा उसकी सुविधाओं के बारे में जानकारी दिए देते हैं।

इस समय हमारे देश में प्रमुखतः 4 प्रकार के मोबाइल वॉलेट काम कर रहे हैंः

लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

इस मोबाईल वॉलेट से आप कोई भी सामान अथवा सर्विस हेतु भुगतान कर सकते हैं जैसेकि वोडाफोन का एम-पैसा वॉलेट है। इसमें बैंकिंग, मनी ट्रांसफर आदि कर सकते हैं।

इसमें उस व्यापारी या दुकानदार से ट्रांजेक्शन की सुविधा रहती हैं जो इस वॉलेट सर्विस देने वाले से जोड़ा हो। आप इसके अंतर्गत नकद पैसा नहीं निकाल सकते तथा पैसे को वापिस भी नहीं ले सकते हैं जैसेकि एयरटेल मनी। इसमें आप लोड पैसा जितना ही खर्च कर पाएंगे।

लोगों में यह वाॅलेट बहुत लोकप्रिय है। इसमें ऑर्डर कैंसल या वापस होने पर व्यापारी या दुकानदार के पास पेसा लॉक्ड हो जाता है।

इसमें आप ऑनलाइन शॉपिंग, बिल भुगतान, अन्य सेवाएं आदि ले सकते हैं पर नकदी नहीं निकाल सकते जैसेकि पेटीएम।

मोबाइल वॉलेट को हम एक डिजिटल पर्स कह सकते हैं। इसका उपयोग हम रुपए-पैसे के लेन-देन, भुगतान आदि कामों में कर सकते हैं। इसे यूं भी कहा सकते हैं कि यह स्मार्टफोन में मौजूद वर्चुअल वॉलेट है जिसमें रुपए डिजिटल मनी के रूप में संग्रहित रहते हैं। अनेक वॉलेट कंपनियां अपने उपभोक्ताओं को वॉलेट से भुगतान पर आकर्षक कैश बैक आदि स्कीमें भी दे रही हैं। मान लो आप बिग बाजार जैसे स्टोर में गए। वह स्टोर मोबाइल वॉलेट से जुड़ा होगा तो आप सामान का भुगतान अपने स्मार्टफोन से भी कर सकते हैं। इसके अलावा, आप सोशल मीडिया, एप, वेबसाइट व टेक्स्ट मैसेज आदि से भी भुगतान कर सकते हैं।

आपको बताते चले कि कीनिया के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी ) में मोबाइल-पेमेंट से हुआ वित्तीय लेन-देन 40 प्रतिशत है। इस देश की 70 प्रतिशत जनंसख्या ‘एम-पैसा' रूपी इस सेवा का उपयोग करती है जबकि इनमें से अधिकांशों के बैंक खाते भी नहीं हैं। जबकि हमारे देश में लगभग 90 करोड़ मोबाइल यूजर्स हैं किंतु एक प्रतिशत से भी कम आबादी मोबाइल पैसे का उपयोग करती है। सरकारी आंकड़ों की जुबानी भारतीय जीडीपी का 0.1 प्रतिशत वित्तीय लेन-देन मोबाइल पैसे से होता है। यद्यपि एम-पेमेंट अथवा मोबाइल से बिल भुगतान सेवा नई नहीं है। सबसे पहले इसका उपयोग 2001 में एचडीएफसी बैंक से मोबाइल बिल भुगतान में हुआ था।


लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

Read more about:
English summary
Mobile wallet, in my opinion, is a stored value account that can store cash, debit/credit card details or even the loyalty card details on your ...
Please Wait while comments are loading...
फौजी बना मौजी: ट्रेन में महिला को अकेला पाकर की ये गंदी हरकत, पति को भी पीटा
फौजी बना मौजी: ट्रेन में महिला को अकेला पाकर की ये गंदी हरकत, पति को भी पीटा
अपने स्टूडेंट्स के साथ जबरन संबंध बनाती थी टीचर, दूसरी बार हुई गिरफ्तार
अपने स्टूडेंट्स के साथ जबरन संबंध बनाती थी टीचर, दूसरी बार हुई गिरफ्तार
Opinion Poll

Social Counting