Subscribe to Gizbot

अंतरिक्ष में फैला कचरा पृथ्वी के लिए हो सकता है खतरा..!!

Written By:

अन्तरिक्ष में फैला हुआ कचरा लिए खतरा बना हुआ है. हाल में हुई एक घटना ने नासा के वैज्ञानिकों को भी हैरत और चिंता में डाल दिया है। पृथ्वी के वायुमंडल में कुछ ही दिन पूर्व एक अजीबो गरीब चीज देखने को मिली है। कहा जा रहा है कि यह अजीबो गरीब चीज मलबा हो सकती है।

तो इसलिए मार्क जुकरबर्ग ने छोड़ दी फेसबुक की जॉब..!!

नासा के प्रशासक चार्ल्स बोल्डन ने इस बात पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा है कि अन्तरिक्ष में मलबा लगातार बढ़ता जा रहा है। यदि इसे जल्दी ही साफ़ नहीं किया गया तो यह पृथ्वी के लिए खतरा बन सकता है।

पानी-पानी हुए चेन्नई में लोगों की मदद को ओला ने उतारी नाव..!!

क्या है यह मलबा, कहाँ से आया और पृथ्वी के लिए कैसे बन सकता है खतरा जानिए इस स्लाइड में-

लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

अंतरिक्ष में फैला कचरा पृथ्वी के लिए हो सकता है खतरा..!!

अंतरिक्ष पर घूम रहा मलबा और कुछ नहीं बल्कि कचरा है जो जिसमें कि पुराने रॉकेट, निष्क्रिय सैटेलाइट और मिसाइल के विस्फोटक अवशेष आदि हैं। यह मानवीय कचरा तभी से जमा होना शुरू हो गया था जब से अंतरिक्ष कार्यक्रमों की शुरुआत हुई।

अंतरिक्ष में फैला कचरा पृथ्वी के लिए हो सकता है खतरा..!!

सैटेलाइट के टकराने से अंतरिक्ष में हजारों सैटेलाइट्स का कचरा फैल जाता है, जो खतरा पैदा कर सकते हैं। टीवी सिग्नल, मौसम की भविष्यवाणी, ग्लोबल पोजिशनिंग के नेविगेशन और इंटरनेशनल फोन कनेक्शनों से जुड़ी सेवाओं पर असर होता है।

अंतरिक्ष में फैला कचरा पृथ्वी के लिए हो सकता है खतरा..!!

नासा का अनुमान है कि 500,000 स्पेस जंक टुकड़े अन्तरिक्ष में मौजूद हैं। यह स्पेस जंक वैज्ञानिकों के लिए चुनौती बनी हुई है।

अंतरिक्ष में फैला कचरा पृथ्वी के लिए हो सकता है खतरा..!!

अक्टूबर माह के अंत में एक भविष्यवाणी की गयी कि नवम्बर में अन्तरिक्ष में घूम रहा मलबा पृथ्वी से टकराएगा। 13 नवम्बर को कोई चीज पृथ्वी के पास देखि भी गयी है, लेकिन अभी यह साफ़ नहीं हो पाया है कि अजीब सी दिखने वाली यह चीज पृथ्वी से टकराई है या नहीं।

अंतरिक्ष में फैला कचरा पृथ्वी के लिए हो सकता है खतरा..!!

कहा जा रहा है कि यह अजीबो-गरीब चीज डब्ल्यूटी1190ऍफ़ हो सकती है। डब्ल्यूटी1190ऍफ़ एक तरह का स्पेस जंक है, ये या तो फ्लैट होता है या फिर हॉलो। यह कोई पुराना फ्यूल टैंक भी हो सकता है।

अंतरिक्ष में फैला कचरा पृथ्वी के लिए हो सकता है खतरा..!!

डब्ल्यूटी1190ऍफ़ का साइज़ अनुमानन एक से सो मीटर तक का होता है, लेकिन इतने छोटे आकार के स्पेस जंक भी काफी बढ़ा नुकसान कर सकते हैं।
यह एतिहासिक तस्वीर मीर स्पेस स्टेशन की है। स्टेशन का इस्तेमाल बंद करने से पूर्व ही इसके सोलर पैनलों पर मलबे ने बुरा असर किया था।

अंतरिक्ष में फैला कचरा पृथ्वी के लिए हो सकता है खतरा..!!

डब्ल्यूटी1190ऍफ़ का आकार छोटा होने का मतलब यह नहीं कि यह पृथ्वी को कम हानि पहुंचाएगा। छोटे से छोटा मलबा भी काफी खतरनाक हो सकता है।

अंतरिक्ष में फैला कचरा पृथ्वी के लिए हो सकता है खतरा..!!

कभी कबार कुछ काफी बड़े मलबे भी पृथ्वी पर आ सकते हैं। जैसे की इस तस्वीर में है, यह सऊदी अरबिया में कहीं मिला था। अक्सर यह मलबा या दूरस्थ इलाकों के द्वारा प्रवेश करता है या फिर पानी में।

अंतरिक्ष में फैला कचरा पृथ्वी के लिए हो सकता है खतरा..!!

यह एक प्रोपेलेंट टैंक है। यह द्वितीय श्रेणी के डेल्टा 2 लॉन्च के वाहन का है।

अंतरिक्ष में फैला कचरा पृथ्वी के लिए हो सकता है खतरा..!!

यह भी एक प्रकार का मलबा है, जिसका आकार सेमी में हो सकता है। यह भी स्पेस से पृथ्वी में आया है।

अंतरिक्ष में फैला कचरा पृथ्वी के लिए हो सकता है खतरा..!!

अन्तरिक्ष में मौजूद कई मलबे एक सुन्दर फायरबॉल का रूप ले लेते हैं।

अंतरिक्ष में फैला कचरा पृथ्वी के लिए हो सकता है खतरा..!!

कहा जा रहा है कि यह डब्ल्यूटी1190ऍफ़ पृथ्वी में एक फायरबॉल के रूप में श्रीलंका के साउथर्न कोस्ट से प्रवेश करेगा।

अंतरिक्ष में फैला कचरा पृथ्वी के लिए हो सकता है खतरा..!!

इस मलबे को जल्द से जल्द साफ़ करना होगा। वरना यह एक बड़ा खतरा साबित हो सकता है।


लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

English summary
on 13th november Nasa noticed some strange thing near earth. They have a doubt that it could be space junk. some debris in space. What will happen if space junk will re-enter in earth..!
Opinion Poll

Social Counting

पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more