SPO2 मापने के लिए, सस्ता ऑक्सीमीटर है महंगी स्मार्टवॉच से बेहतर है, जानिए क्‍यों?

|

क्या आपको SPO2 माप पर भरोसा करना चाहिए जिसे आप Amazfit, Gonoise या अन्य जैसी स्मार्टवॉच के माध्यम से चेक सकते हैं? हां, लेकिन सतर्कता से। इसका कारण यह है कि भले ही ये स्मार्टवॉच और हेल्थ बैंड काफी कुछ करने के बारे में बताते है जैसे ब्लड ऑक्सीज़न इत्यादि तो, उसके लिए सस्ते ऑक्सीमीटर ही ज्यादा फायदे के रह सकते है।

 

सस्ता ऑक्सीमीटर है महंगी स्मार्टवॉच से बेहतर है, जानिए क्‍यों?

आपके लिए यह समझना महत्वपूर्ण है, खासकर अब जब कोविड-19 देश में बहुत तेजी से फैल रहा है और हर कोई अपने SPO2 लेवल के बारे में चिंतित है।

कोविड-19 के मुश्किल दौर में घर पर जरूर रखें पल्स ऑक्सीमीटर, ये रहे बेस्ट ऑप्शन्सकोविड-19 के मुश्किल दौर में घर पर जरूर रखें पल्स ऑक्सीमीटर, ये रहे बेस्ट ऑप्शन्स

जब एक स्मार्टवॉच या स्मार्ट बैंड की तुलना में SPO2 की माप की बात आती है, तो एक अच्छा ऑक्सीमीटर अधिक विश्वसनीय क्यों माना जाता है, क्योंकि इसकी टेक्नोलॉजी में अंतर है। ब्लड ऑक्सीजन लेवल को मापने के लिए दो गैर-इनवेसिव तरीके हैं: रिफ़्लेक्टेंस ऑक्सीमेट्री और ट्रांसमिटेन्स ऑक्सीमेट्री।

स्मार्टवॉच रिफ़्लेक्टेंस ऑक्सीमेट्री का उपयोग करते हैं। जबकि नियमित ऑक्सीमीटर, जो SPO2 को मापते हैं जिसमें एक उंगली ऑक्सीमीटर में रखी जाती है, वो ट्रांसमिटेन्स ऑक्सीमेट्री का उपयोग करते हैं।

रिफ़्लेक्टेंस ऑक्सीमेट्री बनाम ट्रांसमिटेन्स ऑक्सीमेट्री

ट्रांसमिटेन्स ऑक्सीमेट्री, जिसे SPO2 माप का खास मानक माना जाता है, डिवाइस के दो सिरों पर लगाए गए सेंसर का उपयोग करता है। जब उंगली को ऑक्सीमीटर में रखा जाता है, तो डिवाइस का एक छोर लाइट सोर्स का उपयोग करके लाइट का उत्सर्जन करता है, जो उंगली से गुजरता है और फिर दूसरे छोर पर सेंसर को हिट करता है। ये सेंसर फोटोडायोड हैं। यह सेंसर प्रकाश गुणों - तरंग लेंथ आदि को पढ़ता है - और माप के आधार पर SPO2 लेवल की गणना करता है।

सस्ता ऑक्सीमीटर है महंगी स्मार्टवॉच से बेहतर है, जानिए क्‍यों?

वहीं अगर रिफ़्लेक्टेंस ऑक्सीमेट्री की बात करें तो इसमें, जिसका उपयोग स्मार्टवॉच और फिटनेस बैंड में किया जाता है, SPO2 को प्रकाश के माध्यम से मापा जाता है जो स्किन के नीचे ब्लड से रिफलेक्ट होता है। इसका कारण यह है कि लाइट एमीटिंग सेंसर और साथ ही लाइट को पढ़ने वाले सेंसर दोनों एक तरफ होते हैं। दूसरे शब्दों में कहें तो स्मार्टवॉच में लाइट ट्रांसमीटिंग है ही नहीं। तो अब आप ही बताइये कौन सा सही रहेगा आपके लिए?

 

WhatsApp से नजदीकी COVID-19 वैक्सीन सेंटर कैसे ढूंढें?WhatsApp से नजदीकी COVID-19 वैक्सीन सेंटर कैसे ढूंढें?

जैसा कि आप अब तक बताई गयी तकनीक से समझ सकते हैं, ट्रांसमिटेन्स ऑक्सीमेट्री ही ज्यादा सटीक है क्योंकि यह लाइट को पढ़ता है। इसलिए अगर आप भी ऑक्सीज़न लेवल चेक करने के लिए स्मार्टवॉच या स्मार्ट बैंड खरीद रहे तो, इसके बदले आपको सस्ता ही सही लेकिन पल्स ऑक्सीमीटर ही खरीदना चाहिए।

सस्ता ऑक्सीमीटर है महंगी स्मार्टवॉच से बेहतर है, जानिए क्‍यों?

SPO2 स्तर को मापने वाली स्मार्टवॉच

ऑनलाइन या ऑफलाइन मार्केट में आप SPO2 लेवल मापने वाली कई कंपनियों की स्मार्टवॉच तथा स्मार्ट बैंड देखते है जिन्हें 2000 से 5000 हजार से ज्यादा की कीमत में खरीद सकते है। हालांकि अगर इन्हें पहनने का शौक है तो आप इन्हें जरूर खरीद सकते है, लेकिन अगर ऑक्सीजन लेवल चेक करने के इरादे से खरीदना चाहते है तो हमारा यही कहना है कि भले ही सस्ता खरीदो लेकिन पल्स ऑक्सीमीटर ही खरीदें।

Most Read Articles
 
Best Mobiles in India

Read more about:
English summary
Should you trust SPO2 measurements that you can check through smartwatches like Apple, Amazfit, Gonoise or others? Yes, but cautiously. The reason for this is that even though these smartwatches and health bands talk about doing a lot of things like blood oxygen, etc., cheap oximeters can be more beneficial for them.

बेस्‍ट फोन

तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X