जानिए मोबाइल नंबर के शुरुआत में 0, 1, 2, 3, 4 और 5 क्यों नहीं होते?

|

मोबाइल फोन के आने से टेक्नोलॉजी की दुनिया में क्रांति आई है। अपने चाहने वालों के साथ बातचीत करना पहले एक मुश्किल काम हुआ करता था और लोग लैंडलाइन फोन पर भरोसा करते थे। खराब मौसम की स्थिति के कारण लैंडलाइन की कनेक्टिविटी में बाधा पहुंचती थी और बातचीत ठीक से नहीं हो पाती थी। तो आइये इसके बारे में जानते है कुछ विस्तार से।

 
जानिए मोबाइल नंबर के शुरुआत में 0, 1, 2, 3, 4 और 5 क्यों नहीं होते?

हालाँकि, लगभग दो दशक बाद, हम कुछ ही सेकंड में दुनिया भर में किसी तक से बात करने के लिए काबिल हो गए क्योंकि मोबाइल ने पूरी दुनिया में क्रांति ला दी। कनेक्टिविटी में सुधार मोबाइल फोन के कारण संभव हुआ है जो सिम कार्ड द्वारा संचालित होते हैं। सिम कार्ड को सक्रिय करने से आपको एक मोबाइल नंबर मिलता है और इसका उपयोग वह व्यक्ति कर सकता है जो आपसे कॉन्टेक्ट करने के लिए फोन कॉल करना चाहता है। भारत में एक मोबाइल नंबर में 10 अंक होते हैं।

एंड्रॉइड और iPhone पर WhatsApp मैसेज को शेड्यूल करना हैं, तो ये है काम की ट्रिकएंड्रॉइड और iPhone पर WhatsApp मैसेज को शेड्यूल करना हैं, तो ये है काम की ट्रिक

इसी तरह अगर आप भारत से हैं तो किसी समय आपने अपने मोबाइल नंबर के शुरुआती अंकों के बारे में जरूर सोचा होगा। आपके मोबाइल नंबर के शुरुआती अंक +91 से शुरू होते हैं (जो कि भारत का कंट्री कोड है) और उसके बाद 6, 7, 8 या 9 जैसे अंक आते हैं। इसमें आपने यह भी सोचा होगा कि शुरुआती अंक 0, 1 से क्यों शुरू नहीं होते या फिर शुरुआत में 2, 3, 4, या 5 क्यों नहीं होते। हमने इसके लिए यहां कुछ कारण दिए गए हैं कि आखिर क्यों भारत में मोबाइल नंबर केवल 6, 7, 8, और 9 के अंकों से शुरू क्यों होता है।

WhatsApp पर प्रिव्यू वॉइस मैसेज फीचर का मजा कैसे लें, यहाँ जानें प्रोसेसWhatsApp पर प्रिव्यू वॉइस मैसेज फीचर का मजा कैसे लें, यहाँ जानें प्रोसेस

1 से शुरू होने वाले अंकों वाले टेलीफोन नंबर आमतौर पर सरकारी सेवाओं से जुड़े होते हैं। सरकारी सेवाओं में पुलिस, अग्निशमन सेवाएं, एम्बुलेंस आदि शामिल हैं। इस कारण से, भारत में व्यक्तिगत नंबर 1 से शुरू नहीं हो सकते हैं।

 

Amazon पर इन 32 इंच की स्मार्ट टीवी पर मिल रहा है शानदार डिस्काउंटAmazon पर इन 32 इंच की स्मार्ट टीवी पर मिल रहा है शानदार डिस्काउंट

यदि आप किसी सरकारी सेवा का लाभ उठाना चाहते हैं तो आपको 1 से शुरू होने वाला एक नंबर डायल करना होगा।

वहीं दूसरी ओर 2, 3, 4 और 5 से शुरू होने वाले नंबर हैं। गौरतलब है कि 2, 3, 4 और 5 से शुरू होने वाले नंबरों का इस्तेमाल लैंडलाइन फोन द्वारा किया जाता है। यही कारण है कि इन अंकों वाले मोबाइल नंबरों को मोबाइल नंबर के रूप में इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है।

वोडाफोन आइडिया ने पेश किए 4 नए प्रीपेड प्लान्स, जानें क्या-क्या मिलता है बेनिफिटवोडाफोन आइडिया ने पेश किए 4 नए प्रीपेड प्लान्स, जानें क्या-क्या मिलता है बेनिफिट

नंबर 0 का उपयोग लैंडलाइन नंबरों के लिए एसटीडी कोड के रूप में किया जाता है। इसलिए, इसका उपयोग भारत में मोबाइल नंबरों के लिए नहीं किया जा सकता है। तो उम्मीद करते हैं आपको अब इसके बारे में जानकारी मिल गयी होगी कि आखिर भारत में 0, 1, 2, 3, 4 और 5 नंबर से मोबाइल नंबर क्यों होते हैं।

असम के रोनी दास ने किया ऐसा काम कि Google को देने पड़े 3.5 लाख रुपयेअसम के रोनी दास ने किया ऐसा काम कि Google को देने पड़े 3.5 लाख रुपये

हालांकि यह जानकारी आधिकारिक तो नहीं है लेकिन हम इन्हीं कारणों से यह मान सकते हैं कि भारत में मोबाइल के शुरुआत में 0 से 5 तक की संख्या नहीं होती है बल्कि 6 से 9 तक के अंक होते हैं। लेकिन इसके अलावा अन्य कोई भी कारण दिखता नहीं है। जानकारी अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

 
Best Mobiles in India

English summary
Why Indian Mobile Number Not Start With 0, 1, 2, 3, 4, and 5, know the reason

बेस्‍ट फोन

तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X