फेसबुक के स्लो "2G Tuesdays" से होगी यूजर्स की स्पीड तेज

Written By:

फेसबुक ने शुरुआत की है एक नई पहल की जिसका नाम है 2G Tuesdays। इसी के साथ फेसबुक की स्पीड भी काफी स्लो हो गयी है। हालंकि ये हमेशा के लिए नहीं है। ऐसा केवल मंगलवार को होगा। फेसबुक की यह पहल भारत जैसे कई ऐसे उभरते बाजारों को समझने के लिए है जहां इंटरनेट की स्पीड बहुत ज्यादा नहीं है। फेसबुक की यह नई पहल स्लो इंटरनेट स्पीड नेटवर्क जैसे 2G आदि इस्तेमाल करने वाले यूजर्स की समस्याओं का समाधान करेगी।

गूगल का ये कर्मचारी रहता है कार पार्किंग में

फेसबुक के स्लो

"2G Tuesdays" के तहत फेसबुक के एम्प्लाइज फेसबुक एप्स जैसे मैसेंजर आदि को स्लो इंटरनेट स्पीड पर इस्तेमाल करेंगे। जिससे वह स्लो इंटरनेट स्पीड पर काम फेसबुक व उसकी एप्स को यूज कर रहे यूजर की स्थिति को बेहतर समझ सकें। फेसबुक के इंजीनियरिंग डायरेक्टर एलिसन के अनुसार, "जब मैंने फेसबुक को पहली बार 2जी इंटरनेट स्पीड पर खोला तो उसमें काफी समय लगा, मानो वो मेरे धैर्य को परख रहा था।"

इन 10 टॉप हैडफ़ोन पर मिल रहा है डिस्काउंट ऑफर

हालांकि कई देशों जैसे यूएस आदि में यूजर्स 3जी या 4जी स्पीड का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन जो यूजर्स 2जी स्पीड का इंटरनेट यूज करते हैं उन्हें फेसबुक पेज को लोड करने में कम से कम 2मिनट लगते हैं। यही कारण है कि एलिसन और उनकी टीम 2G Tuesdays पर काम कर रहे हैं। इसके चलते जब फेसबुक एम्प्लोयी मंगलवार को किसी भी एप में लोग-इन करेंगे तो उनसे पूछा जाएगा कि क्या वह स्लो इंटरनेट स्पीड इस्तेमाल करना चाहते हैं? इसके बाद अगले एक घंटे तक वह वैसा ही अनुभव प्राप्त करेंगे जैसा दुनिया में कई लोग जो 2जी इस्तेमाल करते हैं, को होता है।

English summary
facebook has taken initiative as 2g tuesday to better understand users who use 2G like in India or Kenya. This will help users in using facebook. The employees will work on this on tuesday.
Please Wait while comments are loading...
'अयोध्या में दिवाली' को लेकर सीएम योगी आदित्यनाथ पर लालू प्रसाद यादव ने क्या कहा?
'अयोध्या में दिवाली' को लेकर सीएम योगी आदित्यनाथ पर लालू प्रसाद यादव ने क्या कहा?
केदारनाथ में पीएम मोदी का भाषण, कहा पहाड़ों की जवानी और पानी दोनों काम आएंगे
केदारनाथ में पीएम मोदी का भाषण, कहा पहाड़ों की जवानी और पानी दोनों काम आएंगे
Opinion Poll

Social Counting