क्या होता है जब आप इंटरनेट से डिलीट करते हैं अपना डाटा!

Written By:

यदि आपको लगता है सोशल मीडिया पर पोस्ट हुआ कंटेंट प्राइवेट है, तो आप गलत हैं। जरा सोचिए उन पोस्ट के बारे में जो आपने कई सालों पहले किए थे, जिन्हें आप अपने अकाउंट से हटा भी चुके होंगे।

 क्या होता है जब आप इंटरनेट डिलीट से करते हैं कुछ भी!

बेह्नाम डेनिम, जो साइबरसिक्योरिटी और प्राइवेसी में स्पेशलाइज हैं, कहते हैं कि इंटरनेट पर कुछ भी चाहे डिलीट करो या नहीं, यह यूज़र के कंट्रोल में नहीं होता है।

खैर सभी सोशल मीडिया साइट्स की अपनी अपनी पॉलिसी होती हैं, आइए जानते हैं सबसे पॉपुलर सोशल मीडिया साइट्स के प्राइवेसी के बारे में, और जानते हैं क्या वाकई में डिलीट करने पर डिलीट होती है यूज़र्स की जानकारी।

लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

फेसबुक

फेसबुक का इस्तेमाल लगभग हर कोई करता है। यह एक बड़ी सोशल मीडिया वेबसाइट है। यह आपका डाटा तब तक सेव रखता है जब तक इससे अन्य यूज़र्स और आपको कोई प्रोडक्ट या सेवा दी जा रही है। यानी कि आपका डाटा डिलीट होने के बाद भी फेसबुक सर्वर में रहता है।

ट्विटर

ट्विटर इस बारे में कोई साफ़ जानकारी नहीं देता है। हालाँकि ट्विटर का कहना है कि सर्च इंजन और थोर्ड पार्टी, यूज़र की प्रोफाइल इन्फो और ट्वीट आदि को डिलीट किए जाने के बाद भी डिलीट कर सकते हैं।

जीमेल

जीमेल और फेसबुक की पालिसी मिलती जुलती है। जीमेल के अनुसार यह यूज़र्स के जरिए डिलीट किए हुए मेल की कॉपी को सर्वर से तब ही डिलीट नहीं करता है।

स्नैपचैट

स्नैपचैट इस मामले में साफ़ शब्दों में कहता है कि स्नैपचैट इसकी कोई गारंटी नहीं देता कि यूज़र्स का डिलीट किया हुआ मैसेज कब तक डिलीट होगा। साथ ही यह भी कहता है कि हो सकता है यूज़र की स्नैप कुछ टाइम के लिए बैकअप में रहे।


लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

English summary
Here is whats happens when you delete something on facebook,twitter and gmail. Read more detail in hindi.
Please Wait while comments are loading...
पाकिस्तान: बदला लेने के लिए दिया 'रेप का आदेश'
पाकिस्तान: बदला लेने के लिए दिया 'रेप का आदेश'
भारत पर परमाणु हमला करने ही जा रहे थे मुशर्रफ, इस एक डर के चलते पीछे खींचे कदम
भारत पर परमाणु हमला करने ही जा रहे थे मुशर्रफ, इस एक डर के चलते पीछे खींचे कदम
Opinion Poll

Social Counting