व्हाट्सएप कॉलिंग करते हैं तो ये खबर है आपके लिए!

Written By:

व्हाट्सएप का इस्तेमला तो आप जरुर करते होंगे। व्हाट्सएप के कॉलिंग फीचर का भी खूब फायदा उठाया जाता है। लेकिन इस फीचर पर अब रोक लग सकती है। क्योंकि एप द्वारा दी इस फीचर से मोबाइल नेटवर्क कंपनियों को काफी घटा पहुँच रहा है।

महंगा हो या सस्ता हर स्मार्टफोन में हैं ये 6 हिडन फीचर्स!

व्हाट्सएप कॉलिंग करते हैं तो ये खबर है आपके लिए!

जी हाँ! मोबाइल नेटवर्क कंपनियों की ओर से टेलीकम्यूनिकेशन डिपार्टमेंट यानी डीओटी को एप के जरिए कॉलिंग सेवा दी जाने वाली सेवा पर रोक लगाने का अनुरोध किया गया है। टेलिकॉम सेक्रेटरी जे.एस.दीपक के लिखे पात्र में लिखा है कि नंबर का इस्तेमाल करते हुए इंटरनेट से कॉल करना मोबाईल और लैंडलाईन के लिए बनाए गए नियमों के खिलाफ है। ऐसा करने से मोबाईल ऑपरेटरों को घाटा भी पहुंच रहा है।

व्हाट्सएप कॉलिंग करते हैं तो ये खबर है आपके लिए!

आपके व्हाट्सएप ग्रुप में भी पक्का होंगे ये 10 कैरेक्टर्स!

वह चाहते हैं कि टेलिकम्युकेशन डिपार्टमेंट इसके खिलाफ कोई ठोस कदम उठाए। जिससे इस तरह के कॉल्स पर रोक लगाई जा सके। टेलिकॉम ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया ने भी पत्र लिख कर इस तरह की ही शिकायत की। इसमें उन्हें एयरटेल भारती, आईडिया, वोडाफोन जैसी कंपनियों का सपोर्ट मिला है।

व्हाट्सएप कॉलिंग करते हैं तो ये खबर है आपके लिए!

नेट न्यूट्रैलिटी विवाद के दौरान भी ओटीटी एप्स यानि ओवर दी टॉप एप्स पर पाबंदी लगाने या उनसे जुड़े नए नियम बनाने की बात कही गई थी। तब भी एयरटेल का यही कहना था कि इन एप्स की वजह से कंपनी को घाटे का सामना करना पड़ रहा है। ओवर दी टॉप एप्स में व्हॉट्सएप और स्काइप जैसे एप्स शामिल हैं जो नेटवर्क की सुविधा देने वाली कंपनियों का प्लेटफॉर्म इस्तेमाल करती हैं लेकिन उन्हें किसी तरह का सीधा फायदा नहीं पहुंचाती। तब डीओटी ने टेलिकॉम कंपनियों की ऐसी मांगों को मानने से इंकार कर दिया था। ऐसी मांगो को नेट न्यूट्रेलिटी के खिलाफ बताया गया था।

English summary
Telecom companies demands ban on calling apps Whatsapp and skype.
Please Wait while comments are loading...
भारत की इस सफाई से चीन को मिली बड़ी राहत
भारत की इस सफाई से चीन को मिली बड़ी राहत
मुजफ्फरनगर रेल हादसा LIVE: 23 की मौत, 65 गंभीर रूप से घायल
मुजफ्फरनगर रेल हादसा LIVE: 23 की मौत, 65 गंभीर रूप से घायल
Opinion Poll

Social Counting