कम कीमत की एसर एस्‍पायर वन 722 नेटबुक

Posted By:

कम कीमत की एसर एस्‍पायर वन 722 नेटबुक

 

टैबलेट के आने के बाद नेटबुक की मांग में थोड़ी कमी जरूर हो गई है मगर अभी भी नेटबुक का क्रेंज बना हुआ है खासकर युवाओं के बीच नेटबुक काफी पसंद की जाती है, कम दाम और कॉम्‍पैक्‍ट साइज की वजह से नेटबुक को लोग अपनी पहली पसंद मानते हैं। कम दाम में हाई क्‍वालिटी पीसी उत्‍पादों के लिए जानी जाती एसर ने एस्‍पायर रेंज के तहत वन 722 नेटबुक पेश की है।

एसर एस्‍पायर वन 722 नेटबुक एसर के परिवार में शामिल सबसे नई डिवाइसेस में से एक है। अच्‍छे प्रोसेसर के साथ नेटबुक की परफारर्मेस भी इसकी सबसे बड़ी खासियत है। आइए डालते हैं नेटबुक में दिए गए फीचरों पर एक नजर

  • 11.6 इंच की स्‍क्रीन

  • एएमडी C-50 एपीयू

  • 2 जीबी रैम

  • 320 जीबी हार्ड डिस्‍क

  • 2.0 यूएसबी पोर्ट

  • 1.35 किलो भार

  • इको फ्रेंडली प्‍लेटफार्म

लुक के हिसाब से नेटबुक काफी बोल्‍ड और खूबसूरत दिखती है। ब्‍लैक कलर के साथ नेटबुक में ब्‍हाइट कलर ऑप्‍शन भी दिया गया है। नेटबुक के कीबोर्ड में दी गई की के बीच में अच्‍छा स्‍पेस दिया गया है जिससे मेल फास्‍ट टाइपिंग स्‍पीड मिलती है। नेटबुक में दिये गये ट्रैक पैड में गैस्‍चर कंट्रोल और पिंच जूमिंग की सुविधा उपलब्‍ध है जिसकी मदद से यूजर पिक्‍चर को आसानी से जूम कर देख सकता है। नेटबुक के बॉटम में दी गई रैम और हार्डडिस्‍क को आसानी से खोल कर निकाला जा सकता है।

नेटबुक की स्‍क्रीन की बात करें तो 11.6 इंच लिड बैक डिस्‍प्‍ले में अच्‍छे रेज्‍यूलूशन की वजह से अन्‍य नेटबुक के मुकाबले कई गुना अच्‍छी पिक्‍चर क्‍वलिटी मिलती है। एस्‍पायर वन 722 में एएमडी सी 50 प्रोसेसर इनबिल्‍ड है जो 1 गीगा हर्ट की स्‍पीड प्रोवाइड करता है जो थोड़ी कम है।

2 जीबी सिस्‍टम मैमोरी के साथ एसर नेटबुक में 320 जीबी की हार्ड डिस्‍क दी गई है। कीमत के हिसाब से एसर की एसपायर वन 722 नेटबुक में अच्‍छे फीचर दिए गए है। बाजार में एसपायर वन 722 नेटबुक 20,000 रूपए में उपलब्‍ध है।

Please Wait while comments are loading...
सामने आया 50 रुपए के नए नोट का फर्स्‍ट लुक, जानें इसकी खासियत
सामने आया 50 रुपए के नए नोट का फर्स्‍ट लुक, जानें इसकी खासियत
परिजनों ने छुपकर देखी शिक्षक की करतूत, कैसे मासूम को बना रहा था हवस का शिकार...
परिजनों ने छुपकर देखी शिक्षक की करतूत, कैसे मासूम को बना रहा था हवस का शिकार...
Opinion Poll

Social Counting