एयरटेल ने किया ‘नेट न्यूट्रेलिटी’ का समर्थन

Written By:

    इंटरनेट निरपेक्षता को लेकर विवादों के घेरे में आई भारती एयरटेल ने आज कहा कि वह सभी वेबसाइटों व एप्लिकेशंस के साथ समान बर्ताव करेगी, बेशक वे उसके टोल फ्री प्लेटफार्म पर हैं या नहीं, पिछले सप्ताह पेश एयरटेल-जीरो एक खुला बाजार मंच है, जिसमें उपभोक्ताओं को कुछ मोबाइल एप्स तक मुफ्त में पहुंच की सुविधा होती है इसके शुल्क का बोझ एप बनाने वाली कंपनियां उठाती हैं।

    पढ़ें: मोबाइल का बैटरी बैकप बढ़ाने वाली 12 फ्री एप

    एयरटेल ने किया ‘नेट न्यूट्रेलिटी’ का समर्थन

    नेट निरपेक्षता की अवधारणा का उल्लंघन करने के लिए कंपनी पर सोशल मीडिया में जमकर हमला बोला गया।

    भारती एयरटेल के प्रबंध निदेशक व मुख्य कार्यकारी अधिकारी (भारत व दक्षिण एशिया) गोपाल विट्टल ने कर्मचारियों को भेजे पत्र में कहा है, ‘‘पिछले कुछ दिन के दौरान आपको एयरटेल जीरो पर काफी बहस देखने को मिली है। इसे ऐसे पेश किया जा रहा है कि जैसे हम नेट निरपेक्षता का उल्लंघन कर रहे हैं। हम मीडिया और सोशल मीडिया में इस बारे में कुछ हलकों से भेजी जा रही गलत सूचना को लेकर चिंतित हैं''

    एयरटेल ने किया ‘नेट न्यूट्रेलिटी’ का समर्थन

    विट्टल ने कहा, ‘मैं इस अवसर का लाभ स्थिति साफ करने के लिए उठाना चाहता हूं। हम पूरी तरह नेट निरपेक्षता के पक्ष में है।'' उन्होंने कहा कि यह प्लेटफार्म सभी एप डेवलपर्स, कंटेंट प्रदाताओं और इंटरनेट साइटों को समानता के आधार पर उपलब्ध है और सभी को समान रेट कार्ड की पेशकश की जा रही है।

    पढ़ें: गूगल हैरान, 28 दिनों में कैसे बना ली इन भारतीयों ने ड्राइवरलेस कार

    विट्टल ने कहा, ‘इसमें और टोल फ्री वॉयस मसलन 1-800 में कोई अंतर नहीं है। उन्होंने कहा कि सभी वेबसाइट, कंटेंट या एप्लिकेशन के साथ उसके नेटवर्क पर समान बर्ताव किया जाएगा, बेशक वे टोल फ्री प्लेटफार्म पर हैं या नहीं।

    एयरटेल ने किया ‘नेट न्यूट्रेलिटी’ का समर्थन

    विट्टल ने कहा कि कंपनी के रूप में हम किसी वेबसाइट को ब्लॉक नहीं करते हैं न ही उसे अलग रफ्तार की पेशकश करते हैं. हमने ऐसा कभी नहीं किया है और न ही ऐसा करेंगे. हमारा मानना है कि हम इस कारोबार में उपभोक्ताओं की ही वजह से हैं।

    देश की सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी के प्रमुख ने कहा कि कुछ हलकों से जानकबूझकर लोगों को असमंजस में डालने का प्रयास किया जा रहा है।

    पढ़ें: सोने सी दिखने वाली एपल मैकबुक

    एयरटेल द्वारा मार्केटिंग प्लेटफार्म की घोषणा के बाद नेट निरपेक्षता को लेकर बहस तेज हो गई है। सोशल मीडिया पर इसको लेकर हमले के बाद ई-कामर्स क्षेत्र की कंपनी फ्लिपकार्ट एयरटेल जीरो से निकल गई है।

    इस बीच, क्लियरट्रिप, एनडीटीवी व टाइम्स ग्रुप फेसबुक के इंटरनेट डॉट ओआरजी प्लेटफार्म से बाहर निकल गई हैं, जिसमें रिलायंस कम्युनिकेशन भागीदार है।

    English summary
    In the eye of the storm over net neutrality, Bharti Airtel on Friday said it will always provide same treatment to every website and application irrespective of whether they are on its toll free platform or not.
    Opinion Poll

    पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more