त्‍यौहारों में न पालें ऑनलाइन जुआ खेलने की लत

Posted By:

तुषार सिंघल (बदला हुआ नाम) ने चार करोड़ रुपये जुए में गंवा दिए। उसे इंटरनेट पर ऑनलाइन गेमिंग जोन में पैसे लगाने की लत थी, यह एक ऐसा ऑनलाइन मंच है, जहां हारने वाले और जीतने वाले के पक्ष में रुपयों का लेनदेन भी ऑनलाइन ही होता है।

पढ़ें: त्‍यौहारों में फायदा उठाइए इन 5 बेहतरीन टैबलेट डील्‍स का?

तुषार के अभिभावकों को इस बात की भनक तक नहीं थी कि 30 साल का उनका बेटा अपने लैपटॉप पर दिन भर क्या करता है। उन्हें अपने बेटे की जुए की लत के बारे में जितना कुछ भी मालूम था, वह बस इतना था कि वह दीवाली के अवसर पर वह थोड़ा बहुत पत्ते खेल लेता है।

त्‍यौहारों में न पालें ऑनलाइन जुआ खेलने की लत

तुषार के पिता ने अब उसे दिल्ली में एक जुए की लत छुड़ाने वाली संस्था में भर्ती किया है। उन्होंने कहा, हमें तो पता भी नहीं था कि जुए की लत इतनी भयंकर भी हो सकती है। तुषार का इलाज कर रहे मनोरोग चिकित्सक गौरव गुप्ता कहते हैं, किसी भी बात की लत के तार चाहे वह जुआ ही हो, दिमाग से जुड़े होते हैं। किसी आदमी की लत को छुड़ाने के लिए पेशेवर हस्तक्षेप की आवश्यकता पड़ती है।

उपचार के शुरुआती दिनों में तुषार चिकित्सा केंद्र में ही कंप्यूटर का उपयोग करने के लिए हमारी अनुमति लेता था और सिर्फ एक घंटे के लिए कंप्यूटर का प्रयोग करता था। थोड़े दिनों में हमने महसूस किया कि उसमें फिर से जुए वाले वेबसाइटों पर समय बिताने की तीव्र इच्छा जागृत होने लगी है। गुप्ता ने कहा, "बहुत से मामलों में हमने देखा है कि मरीज दिवाली जैसे अवसरों पर तीन पत्ती जैसे सामान्य ताश के खेल से शुरुआत करता है और धीरे धीरे उसे क्रिकेट में सट्टेबाजी जैसी बुरी और भयंकर लत लग जाती है।

अगर आपको भी त्‍यौहारों में जुआ खेलने की लत है या फिर ऑनलाइन पैसे के लिए जुआ खेलने है तो खुद पर काबू रखिए और इसे छोड़ने की कोशिश करिए। 

Please Wait while comments are loading...
कौशांबी में जलती चिता से पुलिस ने उठवाई लाश, जानिए वजह...
कौशांबी में जलती चिता से पुलिस ने उठवाई लाश, जानिए वजह...
गोरखपुर हादसे में डीएम ने सौंपी जांच रिपोर्ट, हुए चौंकाने वाले खुलासे
गोरखपुर हादसे में डीएम ने सौंपी जांच रिपोर्ट, हुए चौंकाने वाले खुलासे
Opinion Poll

Social Counting