भारतवंशी वैज्ञानिक ने किया कमाल,स्‍मार्ट कपड़े पता करेंगे बीमारी

Written By:

    स्‍मार्टफोन, स्‍मार्टटीवी के बाद अब स्‍मार्ट कपड़े भी आने वाले है, ये कमाल किया है भारतवंशी वैज्ञानिक कुनाल मनकोदिया ने जो इस दिशा में काफी दिनों से शोध करने में लगे हुए हैं।

    अब आपको अपनी बीमारी बताने के लिए चिकित्सक के पास जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी, क्योंकि यूनिवर्सिटी ऑफ रोड आईलैंड के एक भारतवंशी वैज्ञानिक ने एक ऐसा स्मार्ट कपड़ा विकसित किया है, जो न सिर्फ आपकी बीमारी की पहचान करेगा, बल्कि इससे संबंधित आंकड़े दूर स्थित चिकित्सक के क्लीनिक तक भेजेगा, जिसके बाद चिकित्सक आंकड़ों का अध्ययन कर आपको परामर्श देंगे।

    अब स्‍मार्ट कपड़े पता करेंगे बीमारी

    यूनिवर्सिटी की वियरेबल बायोसेंसिंग लैबोरेटरी के निदेशक कुनाल मनकोदिया इस बात पर शोध कर रहे हैं कि दस्ताने, मौजे, कपड़े और यहां तक कि जूतों को किस प्रकार उच्च तकनीक के उपकरणों में बदला जाए, जो लोगों को स्वस्थ बनाए और उनके जीवन में सुधार करे।

    मनकोदिया ने कहा, "हम अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी के युग में जी रहे हैं, खासकर स्वास्थ्य के क्षेत्र में। मनकोदिया का शोध सेंसर्स, इलेक्ट्रॉनिक्स व सॉफ्टवेयर युक्त स्मार्ट कपड़ों के विकास पर केंद्रित है, जो मरीजों से स्वास्थ्य संबंधी आंकड़ों को इकट्ठा कर सके और उसे चिकित्सक तक भेज सके। मनकोदिया का दल स्मार्ट दस्ताने पर काम कर रहा है, जिसकी अंगुलियां तथा अंगूठे सेंसयुक्त हैं, जो पारकिंसंस बीमारी का लक्षण थरथराहट व कठोरता की जांच कर सकता है।

    पढ़ें: स्‍मार्टफोन से कैसे लें हाई रेज्‍यूलेशन तस्‍वीरें

    गुजरात के राजकोट स्थित सौराष्ट्र विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र मनकोदिया ने कहा, "पारकिंसंस बीमारी से पीड़ित लोगों को चलने-फिरने से संबंधित परेशानियों का सामना करना पड़ता है, यहां तक कि वे लंबी दूरी तक चल भी नहीं पाते।

    उन्होंने कहा, "दस्ताना मरीज को उनके स्वास्थ्य की देखभाल का विकल्प प्रदान करेगा और गिरने या किसी तरह की दुर्घटना से भी बचाएगा। इन दस्‍तानों का उत्‍पादन कब से शुरु होगा ये इस बात निर्भर करता है शोध कब तक पूरा होता है लेकिन एक बात तय है हम टेक्‍नालॉजी के उस दौर में जी रहे हैं जहां पर हर रोज नए प्रयोग और अविष्‍कार होने में लगे हुए हैं।

    नए स्मार्टफोन की बेस्ट ऑनलाइन डील्स के लिए यहाँ क्लिक करें

    English summary
    unal Mankodiya, Director of the university's Wearable Biosensing Laboratory is researching how to transform gloves, socks, clothing and even shoes into high-tech items that will make people healthier -- and improve their lives.
    Opinion Poll

    पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more