सस्‍ते एंड्रायड टैबलेट खरीदने से पहले ध्‍यान दें

Posted by:

क्‍या आप एंड्रायड टैबलेट लेने के बारे में सोंच रहे हैं लेकिन जरा संभलकर कहीं सस्‍ते चक्‍कर आपको टैबलेट महंगा न पड़ जाए। अक्‍सर लोग टैबलेट खरीदते समय ये गलती कर बैठते हैं 3 चार हजार कम कीमत में वे सस्‍ता टैबलेट तो ले लेते हैं लेकिन जब नेट सर्फिंग और टैबलेट में गेम ओपेन करने में दिक्‍कत होती है तो सिवाए अफसोस के वे कुछ नहीं कर सकते हैं।

पढ़ें: मोबाइल फोन प्रयोग करते समय बरतें ये सावधानियां

अलग-अलग ब्रांड की वजह से टैबलेट की कीमत में थोड़ा अंतर जरूर हो सकता है लेकिन लोकल ब्रांड के टैबलेट तो भूल कर भी न खरीदें। टैबलेट लेने से पहले उसके हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर को अच्‍छी तरह से जांच लेना चाहिए क्‍योंकि टैबलेट में जितना अच्‍छा हार्डवेयर होगा उसकी परफार्मेंग भी उतनी अच्‍छी होगी। जैसे इस समय लेटेस्‍ट टैबलेट में सबसे लेटेस्‍ट ओएस जैली बीन है इसके अलावा टैबलेट के कई दूसरे फीचरों पर भी नजर डालनी चाहिए।

पढ़ें: अपने स्‍मार्टफोन को चोरों से कैसे बचाएं

एंड्रायड टैबलेट लेने से पहले कौन कौन सी बातों का ध्‍यान रखें

लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

रैम कैपेसिटी

टैबलेट की परफार्मेंस में रैम का काफी बड़ा हाथ है। आपके टैबलेट में रैम जितना ज्‍यादा होगी उसमें आप एक साथ उतने ज्‍यादा काम कर सकेंगे। टैबलेट में कई साइज की रैम आती है जैसे 128 एमबी रैम, 256 एमबी रैम, 512 एमबी रैम, 1 जीबी रैम, लेकिन आजकल देखा जाए तो 500 से 1 जीबी की रैम कम से कम टैबलेट में होनी चाहिए।

भार

टैबलेट को अगर कैरी करने में दिक्‍कत हो तो फिर वो किस काम का क्‍योंकि टैबलेट एक ऐसी डिवाइस है जिसमें हम हमेशा हम कैरी करते है। साधारण तौर पर टैबलेट का वेट 300 ग्राम से लेकर 700 ग्राम के बीच होता है इसलिए टैबलेट खरीदने से पहले उसके वेट पर भी ध्‍यान दीजिए।

बैटरी लाइफ

टैबलेट खरीदने से पहले उसकी बैटरी के बारे में पूरी जानकारी प्राप्‍त कर लें कि उसमें कितनी पॉवरफुल बैटरी दी गई है। अगर आप ज्‍यादा ट्रेवलिंग करते हैं तो 4,000 एमएएच की बैटरी चुनें ताकि आपकी डिवाइस ज्‍यादा देर तक चल सके। साधारण तौर पर टैबलेट में 2,500 एमएएच बैटरी इनबिल्‍ड होती।

कनेक्‍टीविटी

डिवाइस में कनेक्‍टीविटी का ऑप्‍शन जरूर चेक कर लें। जैसे वाई-फाई, डॉगल सपोर्ट, सिम कनेक्‍टीविटी कहीं ऐसा न हो आपके टैबलेट में केवल वाईफाई ही हो और आप उसमें डॉगल सपोर्ट की उम्‍मीद कर रहे हों।

एप्लीकेशन

कोई भी टैबलेट खरीदने से पहले इस बात की जांच कर लें कि जो भी डिवाइस आप खरीदने जा रहे हैं उसके कौन-कौन से एप्लीकेशन प्री लोडेड है और कौन सी एप्‍लीकेशन रन कर सकते है। वैसे आप ज्‍यादातर एप्‍लीकेशन गूगल प्‍ले और आईओएस स्‍टोर से डाउनलोड कर सकते हैं।

ब्रांड

ऑपरेटिंग सिस्टम और स्क्रीन साइज के बाद बारी आती है ब्रांड की, कौन सी कंपनी कम कीमत में अच्‍छा टैबलेट दे रही है इसके बारे में जान लेना बेहद जरूरी है। जैसे कुछ कंपनियां टैबलेट्स के साथ एक्सट्रा एसेसरीज जैसे स्क्रीन गार्ड, केसिंग और बैग फ्री में देती हैं जबकि कुछ कंपनियां केवल टैबलेट ही देती हैं।

स्क्रीन साइज

बाजार में 3 इंच से लेकर 10 इंच की स्क्रीन वाले टैबलेट और स्‍मार्टफोन उपलब्ध है और टैबलेट का स्क्रीन साइज 7 इंच है और स्‍मार्टफोन की 4 इंच इसलिए जब भी कोई स्‍मार्टफोन या फिर टैब खरीदें उससे पहले यह तय कर ले कि आपको कितने साइट के स्‍मार्टफोन और टैबलेट की जरूरत है अगर आपको इंटरनेट नेट सफिंग के साथ मूवी भी देखना चाहते हैं तो बड़ी स्‍क्रीन का स्‍मार्टफोन और टैबलेट सही रहेगा।

ऑपरेटिंग सिस्टम

टैबलेट और स्‍मार्टफोन खरीदने से पहले इस बात को जांच लें कि उसमें कौन सा ऑपरेटिंग सिस्‍टम दिया गया है। वैसे इस समय गूगल का एंड्रायड जैली बीन सबसे लेटेस्‍ट ओएस है। मार्केट में इसके अलावा आईओएस, ब्‍लैकबेरी और विंडो ओएस टैबलेट और स्‍मार्टफोन उपलब्‍ध हैं।


लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

Please Wait while comments are loading...
तारा शाहदेव की सास कहती थी- धर्म बदल लो नहीं तो बिस्‍तर यही रहेगा, मर्द बदलते रहेंगे
तारा शाहदेव की सास कहती थी- धर्म बदल लो नहीं तो बिस्‍तर यही रहेगा, मर्द बदलते रहेंगे
संभल में अपनी सास से संभलकर रहना दामाद जी!
संभल में अपनी सास से संभलकर रहना दामाद जी!
Opinion Poll

Social Counting