लखनऊ में मेट्रो शुरू, वाईफाई-ग्रीन टॉयलेट से है लैस

Written By:

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ मेट्रो सेवा शुरू की जा चुकी है। कई रिपोर्ट में दावा किया जा रहा है कि लखनऊ की ये मेट्रो दिल्‍ली मेट्रो और कोच्चि मेट्रो से बेहतर है। इस मेट्रो की हर तरफ चर्चा की जा रही है और फिलहाल ये गूगल और सोशल मीडिया पर भी हॉट टॉपिक बन गया है। अगर आपको भी लखनऊ की इस मेट्रो का अनुभव लेना है, तो बस बिना रुके ये आर्टीकल पढ़ लीजिए। आपको करीब-करीब ट्रेन की हर खासियत महसूस हो जाएगी।

लखनऊ में मेट्रो शुरू,  वाईफाई-ग्रीन टॉयलेट से है लैस

इंडियन फ्री का इंटरनेट यूज करने के माहिर हैं और इस मेट्रो में भी आपको ये सुविधा मिलने वाली है। लखनऊ मेट्रो वाईफाई से लैस है। इसके अलावा किसी इमरजेंसी में कोई भी यात्री सीधे ट्रेन ऑपरेटर से बात कर सकेगा। इसके अलावा स्टेशन पर ग्रीन टॉयलेट मौजूद हैं।

पढे़ं- IPL मैच 2017 : फेसबुक हारा, स्‍टार इंडिया ने मारी बाजी

लखनऊ में मेट्रो शुरू,  वाईफाई-ग्रीन टॉयलेट से है लैस

लखनऊ मेट्रो अपनी हाई स्पीड में ट्रैक पर 80 किमी की रफ्तार से दौड़ सकेगी, लेकिन फिलहाल इसे पहले फेज में ट्रांसपोर्ट नगर से चारबाग तक मेट्रो चलाया जाएगा। इसमें इसकी स्पीड 40 से 45 किमी प्रतिघंटा रहेगी। लखनऊ मेट्रो रोजाना सुबह 6 बजे से रात 10 बजे तक चलेगी। 8 किलोमीटर की दूरी में कुल 8 स्टेशन हैं। इसका एवरेज हर एक किलोमीटर पर एक मेट्रो स्टेशन है।

पढे़ं- 10 हजार रुपए से कम में आने वाले ये 5 स्मार्टफोन हैं बेस्ट ऑप्शन

मेट्रो की स्पीड पर नियंत्रण कंट्रोल रूम से होगा, जो ट्रेनों की मॉनिटरिंग का काम करेगा। मेट्रो में सफर करने वाले यात्रियों पर कंट्रोल रूम से निगरानी रखी जा सकेगी। यही नहीं, इमरजेंसी में मेट्रो पर कंट्रोल रूम से ब्रेक लगाया जा सकेगा। लाल रंग की लखनऊ मेट्रो में तीन फीट तक के बच्चों के लिए फ्री एंट्री रखने वाली पहली मेट्रो ट्रेन है।



English summary
Lucknow Metro Commercial run starts today. for more detail read in hindi.
Please Wait while comments are loading...
#INDvsAUS: धोनी की जादूई स्टंपिंग ने बदला मैच का रुख, देखें वीडियो
#INDvsAUS: धोनी की जादूई स्टंपिंग ने बदला मैच का रुख, देखें वीडियो
इस खिलाड़ी से कोहली ने कहा- 'कैच पकड़ना नहीं आता तो स्लिप में खड़ा क्यों होता है'
इस खिलाड़ी से कोहली ने कहा- 'कैच पकड़ना नहीं आता तो स्लिप में खड़ा क्यों होता है'
Opinion Poll

Social Counting