भारत सरकार के सुप्रीम आदेश के बाद बैन हुआ "TikTok" लेकिन अभी भी इस्तेमाल करना संभव

|

TikTok के बारे में आपने सुना ही होगा। भारत में छोटी वीडियो बनाकर खुद को लोकप्रिय करने वाला चीन का यह ऐप काफी प्रसिद्ध हो चुका है। इस ऐप को देशभर के करोड़ों लोग इस्तेमाल करते हैं। इस ऐप के कई बुरे प्रभाव पिछले कुछ महीनों से देखनो को मिल रही थी। इस वजह से मद्रास हाईकोर्ट ने टिकटोक को बैन करने का आदेश दिया था। अब आज गूगल ने अपने प्ले स्टोर और एप्पल ने भी अपने स्टोर से टिकटोक को हटा लिया है। इसका मतलब अब भारतीय यूजर्स गूगल प्ले स्टोर या एप्पल स्टोर से टिकटोक को डाउनलोड नहीं कर पाएंगे।

 

TikTok हुआ बैन

गौरतलब है कि मद्रास हाईकोर्ट के आदेश के बाद टिकटोक में सुप्रीम कोर्ट में बैन ना लगाने के लिए याचिका दायर की थी। जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने मद्रास हाईकोर्ट के फैसलों को बरकार रखते हुए इस मामले पर 22 अप्रैल को अगली सुनवाई की तारीख दी है। मद्रास हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद भारत सरकार ने कल गूगल और एप्पल को अपने स्टोर से इस ऐप को हटाने के लिए कहा था। कोर्ट ने कहा था कि टिकटॉक पर आने वाले अश्लील कंटेंट से बच्चों और टीनऐजर्स पर बुरा प्रभाव पड़ रहा है। भारत सरकार के आदेश के बाद आज गूगल और एप्पल ने अपने प्ले स्टोर से इस ऐप को हटा लिया है।

यह भी पढ़ें:- Tik-Tok वीडियो बनाने के दौरान सोहेल ने सलमान को मारी गोली, आमिर गिरफ्तार

अब यूजर्स इस ऐप को गूगल प्ले स्टोर या एप्पल प्ले स्टोर से डाउनलोड तो नहीं कर पाएंगे लेकिन पुराने यूजर्स इस ऐप का इस्तेमाल पहले की तरह ही कर पाएंगे। वहीं पुराने यूजर्स (जिनके स्मार्टफोन में पहले से ऐप डाउनलोड है) टिकटोक को शेयरइट जैसे किसी भी शेयरिंग ऐप के माध्यम से एक-दूसरे को भेज पाएंगे। जिसके बाद नए यूजर्स इस ऐप को डाउनलोड करके इस्तेमाल कर पाएंगे। इसके अलावा भी टिकटोक को डाउनलोड करने के कई विकल्प अभी भी मौजूद है। लिहाजा अगर नए यूजर्स इस ऐप का इस्तेमाल करना चाहेंगे तो वो कर सकते हैं लेकिन सिर्फ गूगल प्ले स्टोर और एप्पल स्टोर से डाउनलोड नहीं कर पाएंगे।

 

अभी भी डाउनलोड करने का विकल्प मौजूद

ऐसे में एक सवाल उठता है कि अगर यूजर्स इस ऐप को अभी भी डाउनलोड कर ही सकते हैं तो फिर गूगल और एप्पल स्टोर से इसे बैन करने का क्या फायदा होगा...? मद्रास हाईकोर्ट ने इस ऐप को बैन करने का आदेश इसलिए दिया था क्योंकि इससे बच्चों पर बुरा असर पड़ रहा है। टिकटोक पर लोग फेमस होने के लिए अश्लील कंटेंट डाल रहे हैं जिसे टीएजेर और नाबालिग बच्चे देख रहे हैं और उनके दिमाग पर गलत प्रभाव पड़ रहा है। बच्चों और टीनऐजर्स को बुरे प्रभाव से बचाने के लिए कोर्ट ने इसे बैन करने का आदेश दिया था लेकिन बच्चों के पास अभी भी डाउनलोड करने के कई विकल्प मौजूद हैं। ऐसे में गूगल और एप्पल से बैन करने का क्या फायदा होगा...?

क्या ऐप्स और गेम्स को बैन करना ठीक है...?

अगर टिकटोक को बैन करना ही है तो पुरी तरह सर्वर से ही बैन करना चाहिए ताकि ना मौजूदा यूजर्स यूज़ कर पाएं और नाहि नए यूजर्स इसका इस्तेमाल कर पाएं। हालांकि इस बात का अगर दूसरा पक्ष भी देखें तो यह सवाल भी बनता है कि क्या इस तरह से सीधा किसी भी ऐप को बैन करना ठीक है...? ऐसा अगर हमेशा होता रहा तो फिर इस नए इंटरनेट के जमाने में जीने का भी क्या फायदा होगा...? Tiktok जैसे ऐप्स या PUBG जैसे गेम्स को बैन करना क्या ठीक है...? हालांकि हमारे युवा और बच्चों को इन ऐप्स और गेम्स की बुरी लत और बुरे प्रभाव से भी बचाना जरूरी है लेकिन क्या इसके लिए सीधा बैन कर देना सही उपाय है...? अगर नहीं तो आखिर ऐसी समस्याओं का स्थाई समाधान क्या है...?

Most Read Articles
 
Best Mobiles in India

English summary
The TikTok app has seen many bad effects since last few months. Because of this, the Madras High Court ordered it to be banned. Now Google has removed its play store and Apple also stamped itself from its store. Now Indian users will not be able to download it from Google Play Store or Apple Store.

बेस्‍ट फोन

तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more