किताबें पढ़ने के हैं शौकीन, तो ये ऐप करेंगे आपकी मदद

Written By:

कई लोगों को किताबें, उपन्यास और आत्मकथा पढ़ने का शौक होता है। हालांकि बढ़ती व्यस्तता और समय के अभाव के चलते बहुत कम लोग ऐसा कर पाते हैं। हालांकि टेक्नोलॉजी तेजी से डेवलप हो रही है और हर उस क्षेत्र में पहुंच कर इंसानी क्षमता को चैलेंज दे रही है। किताबें पढ़ने वाले लोग जानते होंगे कि इन्हें पढ़ने के लिए समय निकालना काफी मुश्किल होता है और कई बार किताबें इतनी बड़ी होती हैं कि उन्हें एक साथ पढ़ना मुश्किल होता है।

किताबें पढ़ने के हैं शौकीन, तो ये ऐप करेंगे आपकी मदद

अगर आप किताब पढ़ना चाहते हैं, लेकिन समय की कमी है, तो आपकी परेशानी ऐप्स दूर कर सकते हैं। प्लेस्टोर पर ऐसे कई ऐप्स मौजूद हैं, जिनकी मदद से भारी-भरकम किताबों को 15 में पढ़ा जा सकता है। ऐसा ही एक ऐप है, ब्लिंकिस्ट। Blinkist - Nonfiction Books ऐप आपको आसानी से प्लेस्टोर पर मिल जाएगा। इस ऐप में किताब के हाइलाइट्स को पढ़ा जा सकता है।

पढ़ें- हो जाइए तैयार, Whatsapp के लिए जल्द ही चुकाने होंगे पैसे

ब्लिंकिस्ट ऐप के सह-संस्थापक निकोलस जैन्सन बीबीसी को बताते हैं, "जब कॉलेज खत्म करने के बाद हमने काम करना शुरू किया तो पढ़ने और सीखने के लिए वक़्त मिलना कम हो गया। इसी वक्त एहसास हुआ कि हम और बाकी लोग ज़्यादा वक्त स्मार्टफ़ोन इस्तेमाल करने में लगा रहे हैं। इसी से विचार आया कि क्यों न किताबों को सेलफ़ोन में समेट दिया जाए।"

पढे़ं- 1GB Jio डेटा खत्म होने के बाद भी मिलेगी 4Gस्पीड, ट्राई करें ये ट्रिक

इस एप को साल 2012 में जर्मनी के बर्लिन में बनाया गया था. अब दुनिया भर में 10 लाख से ज़्यादा लोग इसे इस्तेमाल कर रहे हैं। इसमें किताबों को ब्लिंक्स (पलक झपकने के अंतराल में लगने वाले समय) में बांटा गया है। यानी एक पलक झपकने तक एक पेज पढ़ा जा सकता है। अगर आप कार या बस में हों, तब इन्हें सुन भी सकते हैं।

पढे़ं- शाहरुख खान के पसंदीदा लोगों में हैं गूगल के CEO सुंदर पिचाई

हालांकि इस तरह के ऐप आलोचनाओं के शिकार भी होते रहे हैं। इन ऐप के बारे में लोगों का कहना है कि सार पढ़ने की पूरी किताब पढ़ने से तुलना नहीं की जा सकती। इसके अलावा बहुत से लोगों को यह चिंता भी है कि इससे कम समझदार और आलसी समाज का निर्माण होगा, साथ ही टेक्नोलॉजी पर निर्भरता और बढ़ जाएगी। ब्लिंकिस्ट ऐप के डेवलपर खुद भी कहते हैं कि इस तरह के ऐप से हर किताब के लिए उपयोगी नहीं है।



English summary
The apps that turn books into 15-minute reads. for more detail read in hindi.
Please Wait while comments are loading...
'अयोध्या में दिवाली' को लेकर सीएम योगी आदित्यनाथ पर लालू प्रसाद यादव ने क्या कहा?
'अयोध्या में दिवाली' को लेकर सीएम योगी आदित्यनाथ पर लालू प्रसाद यादव ने क्या कहा?
केदारनाथ में पीएम मोदी का भाषण, कहा पहाड़ों की जवानी और पानी दोनों काम आएंगे
केदारनाथ में पीएम मोदी का भाषण, कहा पहाड़ों की जवानी और पानी दोनों काम आएंगे
Opinion Poll

Social Counting