Google ने लांच किया नया अपडेट क्‍या है इसमें खास आइए जानते हैं

    Google ने इस सप्ताह एक ब्लॉग पोस्ट में लिखा है, "मैक की टच आईडी और एंड्रॉइड का  फिंगरप्रिंट सेंसर डेवलपर्स को बायोमेट्रिक आथेन्टीकेटर्स तक पहुंचने की अनुमति देगा।" क्रोम  ने सभी प्लेटफार्मों के लिए अपना नया क्रोम बीटा जारी किया जो कई नई विशेषताएं लाता  है। एंड्रॉइड और आईओएस उपयोगकर्ता लॉग इन आथेन्टीकेशन करने के लिए अपने  फिंगरप्रिंट स्कैनर का उपयोग करने में सक्षम होंगे।

    क्रोम 70 बीटा संस्करण शेप डिटेक्शन सुविधा के साथ आता है जो डिवाइस पर आकार की पहचान क्षमता को वेब पर उपलब्ध कराने में सक्षम बनाता है, जिससे उपयोगकर्ता चेहरों, छवियों और टेक्स्ट्स की पहचान कर सकते हैं। शेप डिटेक्शन एप्लीकेशन प्रोग्रामिंग इंटरफ़ेस (API) में चेहरा पहचान, बारकोड पहचान और टेक्स्ट पहचान APIs शामिल हैं।

    Google ने लांच किया नया अपडेट क्‍या है इसमें खास आइए जानते हैं

    इसके अलावा, क्रोम 70 विंडोज 10 पर वेब ब्लूटूथ को भी सपोर्ट करता है जो क्रोम को अन्य ब्लूटूथ उपकरणों के साथ कम्यूनिकेट करने में सक्षम बनाता है। वेब ब्राउज़र का बीटा संस्करण एंड्रॉइड, क्रोम ऑपरेटिंग सिस्टम (OS), लिनक्स, macOS और विंडोज के लिए उपलब्ध कराया गया है।

    Google इंटरनेट, उपयोगकर्ताओं को एक बार के पासवर्ड, हार्डवेयर-key और यहां तक कि बॉयोमीट्रिक उपकरणों का उपयोग करके two-factor आथेन्टीकेशन विधियों के लिए ऑप्ट-इन करने को प्रोत्साहित कर रहा है। टेक जायंट ने हाल ही में सभी विंडोज़, MacOS, लिनक्स, एंड्रॉइड, क्रोमोज़ और iOs के लिए अपने क्रोम वेब ब्राउजर में एक अपडेट जारी किया है। ऐप का मोबाइल संस्करण अब आपके फोन या टैबलेट के फिंगरप्रिंट स्कैनर का उपयोग करके two-factor आथेन्टीकेशन का समर्थन करता है।

    ये भी पढ़ें : कैसे चेक करें फोन में जियो, एयरटेल, वोडाफोन की इंटरनेट स्‍पीड ?

    नया अपडेट ऐप्पल उपकरणों के लिए टच आईडी और एंड्रॉइड डिवाइस पर बुल्ट-इन फिंगरप्रिंट सेंसर का उपयोग करता है। क्रोम का वेब आथेन्टीकेशन API अब उपयोगकर्ताओं को डिफ़ॉल्ट रूप से two-factor आथेन्टीकेशन के रूप में अपने फिंगरप्रिंट को उपयोग करने की अनुमति देता है।

    आप बॉयोमीट्रिक आथेन्टीकेशन विधियों का उपयोग करके, साइबर अपराधियों द्वारा पासवर्ड और ईमेल हैक की संभावनाओ को कम कर सकते हैं। टेक जायंट ने अपने ब्लॉग में लिखा है कि "वेब आथेन्टीकेशन एपीआई ने एक तीसरा क्रेडेंशियल टाइप, पब्लिक key क्रेडेंशियल को जोडा है, जो वेब एप्लीकेशन को मजबूत, क्रिप्टोग्राफिक अटेस्टेड और एप्लीकेशन-स्कोप्ड क्रेडेंशियल का उपयोग करने और उपयोगकर्ताओं को दृढ़ता से आथेन्टीकेट करने की अनुमति देता है।

    ये भी पढ़ें : क्‍या भारत के अलावा दूसरे देशों में जियो यूज़ कर सकते हैं ?

    नया अपडेट ब्राउज़र पर HTTPS चेतावनियों के तरीके को भी बदलता है। जब आप असुरक्षित वेबसाइटों में अपना पासवर्ड या ईमेल पता दर्ज करने का प्रयास करते हैं तो एक नई "सुरक्षित नहीं" चेतावनी लाल रंग में दिखाई जाती है।यह उपयोगकर्ताओं को असुरक्षित वेबसाइटों में अपने व्यक्तिगत विवरण को डालने से रोक सकता है।एंड्रॉइड उपयोगकर्ता भी वेब ब्लूटूथ का उपयोग कर सकते है जो वेबसाइटों को आस-पास के उपकरणों के साथ कम्यूनिकेट करने की अनुमति देती है। यह सुविधा पहली बार विंडोज 10 के लिए लॉन्च की गई थी और अंततः इसे अन्य प्लेटफॉर्म पर भी लॉन्च किया जायेगा।

    Read more about:
    English summary
    Google has released its "Crome 70" Beta version with shape detection feature that would enable the device's shape detection capabilities to be available on the web which will allow the users to identify the faces, images and texts. Google has emphasised more on fingerprint scanning for the web recently.
    भारत का अब तक का सबसे बड़ा राजनीतिक पोल. क्या आपने भाग लिया?
    Opinion Poll

    पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more