सोलर पॉवर से चलने वाले नन्‍हे घर जिन्‍हें कहीं भी उठा कर रख सकते हैं

Written By:

सोलर एनर्जी दुनिया का एकमात्र ऊर्जा का ऐसा श्रोत है जिसमें दुनिया का भविष्‍य टिका हुआ है, इसी ऊर्जा के श्रोत पर आधारित Ecocapsules नाम के छोटे घर डिज़ाइन किए गए हैं जो पूरी तरह से सोलर और विंड एनर्जी पर चलेंगे। इन सोलर होम्‍स में सोलर पैनल, विंड टरबाइन और बारिश के पानी को बचाकर रखते की सुविधा होगी जिसे आप घर के कामों में प्रयोग कर सकते हैं।

हैरान कर देने वाला वीडियो: क्‍या एके 47 की गोली झेल पाएगा आईफोन

Ecocapsules को किसी भी रूप में प्रयोग किया जा सकता है जैसे आपदा के समय, या फिर टूरिस्‍ट लॉज के रूप में, हालाकि ऐसे घरों को खरीदने के लिए आपको ऑर्डर देना पड़ेगा। अगर आप 2015 में आप ऐसे घर आर्डर करते हैं तो 2016 में जून तक आपको इनकी डिलीवरी कर दी जाएगी।

आइए जानते हैं Ecocapsules सोलर होम की कुछ खासियतें।

लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

1

2016 तक ऐसे घर सप्‍लाइ होने शुरु हो जाएंगे।

2

Ecocapsule नाम के इन घरों में सोलर एनर्जी के साथ विंड और वॉटर सेविंग करने के तरीके दिए गए हैं।

3

सोलर और विंड होम्‍स में दो लोगों के लिए आराम से जगह दी गई है।

4

Ecocapsules होम्‍स को कहीं भी कैरी करके रखा जा सकता है।

5

Ecocapsules को हैलीकॉप्‍टर से लेकर जहाजों से कहीं भी सप्‍लाइ किया जा सकता है।

6

किचन, बाथरूम के अलावा Ecocapsules में सोने के लिए बेडरूम भी बनाया गया है।

7

Ecocapsules होम्‍स की दीवारे ज्‍यादा से ज्‍यादा से ज्‍यादा एनर्जी सेव करने के लिए बनाई गईं हैं।

8

इन घरों को किसी भी रूप में प्रयोग किया जा सकता है जैसे इमजेंसी होम, या फिर टूरिस्‍ट होम के रूप में।


लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

English summary
Ecocapsules, designed by Bratislava-based Nice Architects, promise to let anyone live off the grid for up to a year.
Please Wait while comments are loading...
बाहुबली और श्रीदेवी समेत 24 दुर्लभ मूर्तियों को विदेशों से वापस ला चुकी है मोदी सरकार
बाहुबली और श्रीदेवी समेत 24 दुर्लभ मूर्तियों को विदेशों से वापस ला चुकी है मोदी सरकार
SOLAR ECLIPSE 2017: साल का दूसरा सबसे बड़ा ग्रहण हुआ खत्म
SOLAR ECLIPSE 2017: साल का दूसरा सबसे बड़ा ग्रहण हुआ खत्म
Opinion Poll

Social Counting