इंटरनेट आधारित एप सेवाओं में 17 फीसदी वृद्धि

Posted By: Gizbot Staff

    देश में वित्त वर्ष 2015-16 में इंटरनेट ट्रैफिक में 17 फीसदी का इजाफा देखा गया, जिससे सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में 7 करोड़ रुपये की वृद्धि हुई। इसमें इंटरनेट आधारित एप सेवाओं का कम से कम 1.4 लाख करोड़ रुपये का योगदान था।

    पढ़ें: किसी की भी कॉल कर सकेंगे रिकार्ड ?

    'नई पीढ़ी की इंटरनेट आधारित एप्लिकेशन सेवाओं के मूल्य का अनुमान' रिपोर्ट में कहा गया कि वित्त वर्ष 2015-16 में देश के जीडीपी में इंटरनेट का योगदान करीब 5.6 फीसदी था और अनुमान है कि साल 2020 तक यह 16 फीसदी (36 लाख करोड़ रुपये) तक हो जाएगा, जिसमें से इंटरनेट आधारित एप का योगदान करीब आधा (करीब 18 लाख करोड़ रुपये) होगा।

    पढ़ें: ऑनलाइन कैसे चेक करें एलआईसी पॉलिसी का स्‍टेट्स

    इंटरनेट आधारित एप सेवाओं में 17 फीसदी वृद्धि

    इस रिपोर्ट में बताया गया कि वित्त वर्ष 2015-16 में इंटरनेट ट्रैफिक में 17 फीसदी का इजाफा देखा गया, जिससे सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में 7 करोड़ रुपये की वृद्धि हुई। इसमें इंटरनेट आधारित एप सेवाओं का कम से कम 1.4 लाख करोड़ रुपये का योगदान था।

    पढ़ें: अमेज़न मैसेजिंग ऐप 'Anytime', जानिए कैसे देगी व्हाट्सऐप को मात

    इस रिपोर्ट को प्रमुख थिंक टैंक आईसीआरआईईआर ने ब्रॉडबैंड इंडिया फोरम के साथ मिलकर तैयार किया है, जिसे संचार मंत्री मनोज सिन्हा ने जारी किया। दिल्ली में हुए इस कार्यक्रम में इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (एमईआईटीवाई) और भारतीय दूरसंचार विनियामक प्राधिकरण (ट्राई) और नीति आयोग के प्रमुख अधिकारी भी मौजूद थे।

    इंटरनेट आधारित एप सेवाओं में 17 फीसदी वृद्धि

    इस मौके पर ब्रॉडबैंड इंडिया फोरम के अध्यक्ष टी. वी. रामचंद्रन ने कहा, "इंटरनेट एप और सेवाएं पारंपरिक उद्योगों में बाधा पहुंचा रही है। इसलिए वैश्विक स्तर पर इसे विनियमित करने के लिए ग्राहकों के फायदे तथा पारिस्थितिकी तंत्र को बढ़ावा देने दोनों को ध्यान में रखना होगा, ताकि नवोन्मेष जारी रहे।

    पढ़ें: करोड़ो का फोन बेंचने वाली वेरतु बंद करेगी अपनी दुकान

    इस अध्ययन के तहत 16 सेवा/एप कंपनियों का अध्ययन किया गया जिसमें मेकमाईट्रिप, प्रैक्टो, पेटीएम, अर्बनक्लैप, नेटफ्लिक्स, विंक, वायजूस, ट्रकॉलर, फारमार्ट और एमपी मोबाइल शामिल थे।

    इंटरनेट आधारित एप सेवाओं में 17 फीसदी वृद्धि

    आईसीआरआईईआर के निदेशक व मुख्य कार्यकारी अधिकारी रजत कठुरिया ने कहा, "इंटरनेट का उपयोग और स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र दोनों तेजी से बढ़ रहा है। हमने अपने अध्ययन में पाया कि पारिस्थितिकी तंत्र का इस्तेमाल सामाजिक स्तर पर भी तेजी से बढ़ा है, खासकर महिलाओं की सुरक्षा जैसे मामलों में।"

    अध्ययन के मुताबिक कुल इंटरनेट ट्रैफिक और मोबाइल इंटरनेट ट्रैफिक में 10 फीसदी की वृद्धि से देश के जीडीपी में क्रमश: 3.3 फीसदी और 1.3 फीसदी की बढोतरी होती है, जबकि वैश्विक औसत क्रमश: 1.3 फीसदी और 0.7 फीसदी का है।

    English summary
    The year 2015-16 saw a 17 per cent increase in the total internet traffic in India that led to an increase of Rs 7 lakh crore in Gross Domestic Product (GDP), of which at least Rs 1.4 lakh crore came from internet-based app services, a new first-of-its-kind study revealed on Friday.
    Opinion Poll

    पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more